.

नीतीश की राह में दो और प्राइम मिनिस्टर कैंडिडेट, बसपा ने मायावती तो सपा ने अखिलेश का नाम उछाला | ऑनलाइन बुलेटिन

लखनऊ | [उत्तर प्रदेश बुलेटिन] | लोकसभा चुनाव को अभी दो साल बाकी है पर यूपी-बिहार में चुनावी सरगर्मी तेज है। सभी दल चुनावी तैयारियां शुरू कर चुके है। यूपी से प्रधानमंत्री पद के 2 और दावेदार के नाम सामने आ रहे हैं। समाजवादी पार्टी ने अखिलेश यादव का नाम उछाला है तो बहुजन समाज पार्टी ने मायावती जी को अच्छा दावेदार बता रही है।

 

वहीं विपक्ष के तौर पीएम पद के लिए मजबूत दावेदार दिख रहे बिहार सीएम नीतीश कुमार का खेल बिगड़ता दिख रहा है।

 

सपा ने अखिलेश को पीएम पद के लिए उपयुक्त दावेदार बताया

 

सपा का राष्ट्रीय सम्मेलन में वरिष्ठ नेता रविदास मेहरोत्रा ने कहा कि देश में गैर भाजपा सरकार बने और सपा सबसे बड़ी पार्टी बने और अखिलेश प्रधानमंत्री पद पर आएं तो अखिलेश ने उनकी बातों के संदर्भ में कहा कि उन्होंने इतना बड़ा सपना दिखाया है। हम ऐसा नहीं सोचते कि उस पद पर पहुंचे। हम यह सपना जरूर देखते हैं कि किसी तरह भाजपा सरकार सत्ता से बाहर हो जाए। हाल में सपा सांसद हसन ने अखिलेश को पीएम पद के लिए उपयुक्त दावेदार बताया था। रविदास मेहरोत्रा के अलावा पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने भी यही बात दोहराई।

 

बसपा चाहती है मायावती जी हो दावेदार

 

वहीं बसपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता धर्मवीर चौधरी ने बयान जारी कर कहा कि यदि मायावती को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया जाए तो बसपा तीसरे मोर्चे में शामिल होने के लिए तैयार है। धर्मवीर चौधरी ने इसके पीछे कुछ दलीलें भी दी हैं। उन्होंने कहा कि इस वक्त विपक्ष में नीतीश कुमार सहित कोई भी नेता मायावती के कद का नहीं है।

पहली 'ममीफाइड' बॉडी? क्‍या सच में 17 माह बिना केमिकल सुरक्ष‍ित रहा विमलेश का शव, जानें एक्‍सपर्ट की राय | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

पीएम दावेदारों की संख्या बढ़ी

 

जब गैर भाजपाई दलों में प्रधानमंत्री पद की दावेदारों की संख्या बढ़ती जा रही है। चाहे कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी हों, जद यू के नीतीश कुमार हों या बसपा की मुखिया मायावती। इनकी पार्टियां अब इस पद के लिए नाम आगे कर रही हैं। तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर व पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हालांकि कुछ कहा नहीं है, लेकिन उनकी महत्वकांक्षाएं छिपी नहीं हैं।

 

 

अंधविश्वास की अविश्वसनीय घटना; 17 महीने तक IT अफसर के जिंदा होने की आस, घर में ही रखी थी लाश | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

 

Related Articles

Back to top button