.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा सवाल, जबरन धर्म परिवर्तन रोकने को क्या कर रहे हैं | ऑनलाइन बुलेटिन

नई दिल्ली | [कोर्ट बुलेटिन] | सुप्रीम कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण पर बेहद सख्त टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि जबरन धर्मांतरण बहुत ही गंभीर मुद्दा है। कोर्ट ने कहा कि यह देश की सुरक्षा और धर्म की स्वतंत्रता को भी प्रभावित करता है। इतना ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि जबरन धर्मांतरण रोकने के लिए वह क्या कर रही है।

 

साथ ही, अवैध धर्मांतरण पर कानून की मांग को लेकर 22 नवंबर तक जवाब मांगा है। मामले में अगली सुनवाई की तारीख 28 नवंबर तय हुई है।

 

केंद्र दाखिल करे हलफनामा

 

मामले की सुनवाई जस्टिस एमआर शाह और हिमा कोहली की बेंच में चल रही है। सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से जवाब देते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने आदिवासी क्षेत्रों में होने वाले धर्म परिवर्तन की बात कही, इस पर कोर्ट ने पूछा कि सरकार इस तरह के मामलों में क्या कर रही है?

 

कोर्ट ने यह भी कहा कि राज्यों के पास इस मामले में कानून हो सकते हैं। लेकिन हम जानना चाहते हैं कि केंद्र इस मामले में क्या कर रहा है। बेंच ने केंद्र सरकार ने जबरन धर्मांतरण के खिलाफ उठाए गए 22 कदमों का विवरण देते हुए हलफनामा मांगा है।

 

याचिका पर चल रही है सुनवाई

 

गौरतलब है कि देश में जबरन धर्म परिवर्तन के कई मामले सामने आ चुके हैं। वहीं अलग-अलग संगठनों का दावा है कि देश में लोगों डराने-धमकाने के साथ पैसों का लालच देकर भी लोगों का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ सरकार को झटका: सस्पेंड ADG की जमानत पर कोर्ट ने कहा- हस्तक्षेप की जरूरत नहींं chhatteesagadh sarakaar ko jhataka: saspend adg kee jamaanat par kort ne kaha- hastakshep kee jaroorat naheenn
READ

 

इस संबंध में दिल्ली भाजपा के नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय ने एक याचिका भी दायर की थी। इसी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है।

 

ये भी पढ़ें:

जनजातीय गौरव दिवस पर शाहिद बिरसामुंडा की प्रतिमा पर मोहन भागवत ने किया माल्यार्पण, आदिवासी परंपरा के अनुरूप भारी संख्या में नर्तक दल हुए शामिल, निकली ऐतिहासिक शोभायात्रा | ऑनलाइन बुलेटिन

 

Related Articles

Back to top button