.

बोल बम bol bam

©राजेश श्रीवास्तव राज

परिचय– गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश.


कवित्त छंद

 

घुमड़ अकड़ कर, जोर जोर बोलते हैं।

सब मेघ देखो यहां, झूम झूम घूमते।

बरखा बहार आई, लता कुंज भीग रहे।

गीत कजरी के मिल, गाएं संग झूमके।।

 

मेहंदी हाथों में लगा, अंजन नैनन सजा।

रूप को संवार खूब, आज रहे झूलते।

शिव को रिझा रहे, गंगाजल लाते भर।

घूम-घूम नाच कर, बोल बम गूंजते।।

 

 

 

राजेश श्रीवास्तव

Rajesh Srivastava Raj

 

 

poetic verse

Stuttering, speaking loudly.
Look at all the clouds here, swinging around.

Barkha came out, Lata Kunj got wet.
Geet Kajri ke mil, gane sang jhumke.

 

Mehndi was applied in the hands, Anjan Nain was punished.
A lot of grooming, stay swinging today.

Keep wooing Shiva, bring Gangajal all the way.
By dancing around, the words bombs would resonate.

 

 

 

मैं किसान हूं न.. main kisaan hoon na..

 

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button