.

कौन है वो लड़की… अगर झूठ बोला तो मैं तुम्हारी जान ले लूंगी और उसने सुधीर का कॉलर पकड़ लिया… पढ़ें कहानी जूही की महक का 8 वां भाग kaun hai vo ladakee… agar jhooth bola to main tumhaaree jaan le loongee aur usane sudheer ka kolar pakad liya… padhen kahaanee joohee kee mahak ka 8 vaan bhaag

©श्याम कुंवर भारती

परिचय- बोकारो, झारखंड


 

 

जूही ने अपने आवास पर अपने ऑफिस के बड़े बाबू को फोन कर बुलाया। उसने सुधीर को भी फ़ोन कर आने को कहा।

 

थोड़ी देर में बड़े बाबू हाजिर हो गए। उसने बड़े बाबू से कहा – बड़े बाबू मेरी जिला में सबसे बात हो गई है आप चिंता न करे जिला विधायक के मामले में मेरी मदद करेगा। लेकिन विधायक के मामले में हम सब के सोच समझकर काम करना होगा। आप पहले विधायक जी से मेरी मीटिंग करवाने की व्यवस्था करें। इसके बाद मामले से संबंधित जितने अधिकारी और कर्मचारी है उनकी मीटिंग रखें। साथ ही प्रखंड अंतर्गत जितने भी मुखिया और पंचायत समिति के सदस्य हैं उनके साथ भी मीटिंग कराएं। दो तीन दिन में सब तैयारी कर मुझे रिपोर्ट करें। बड़े बाबू ने कहा, जी मैडम मैं सब तैयारी करवाकर आपके सूचित करता हूं।

 

और एक काम और करना है अभी सुधीर आता होगा किसी बैंक से बात कर देखें अगर कोई मेरी अनुशंसा पर उसे सवारी ढोने के लिए चार चक्का वाहन के लिए ऋण दे सकता है तो बात कर मुझे बताएं। मुझे जहा बोलेंगे मैं साइन कर दूंगी। जी जरूर मैडम मैं बैंक किसी कर्मचारी को भेजकर पता करता हूं। वैसे लगभग बैंकों में प्रखंड का लाखों, करोड़ों रुपए पड़े हुए हैं उनको छोटा सा लोन देने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। फिर भी मैं बात कर आपको बताता हूं इतना कहकर वो चला गया।

 

तभी सुधीर भी पहुंच गया। उसने जूही को प्रणाम कर पूछा जी मैडम आपने बुलाया। जूही ने सुधीर को देखकर मुस्कुराते हुए कहा अभी तो आए हो। थोड़ा ठहर तो जाओ कुछ वक्त तो लगेगा हाल ए दिल सुनाने में। सुनते ही सुधीर ने कहा – वाह वाह मैडम आप तो शायरी भी कर लेती हैं। बस ऐसे ही सुनी सुनाई बोल लेती हूं। आओ बैठे, जूही ने खुश होते हुए कहा। सुधीर के बैठते ही उसने पूछा – आंटी और तुम्हारे भाई बहन कैसे है। माफ करो इधर इतना बीजी हो गई हूं कि तुमसे बात नहीं कर पा रही थी। सब बहुत अच्छे हैं मैडम। मेरी मां हमेशा आपकी चिंता करते रहती है। आपने मुझे आते ही दस लाख का काम दिला दिया है मैडम मैं कैसे आपका शुक्रिया अदा करूं। सुधीर ने आभार प्रकट करते हुए कहा।

 

तुमको शुक्रिया करना है तो एक काम करो या तो तुम मुझे चाय बनाकर पिलाओ या मैं बनाकर पिलाती हूं। मेरा रसोइया आज नहीं आई है। खाना भी आज तुम्हारी मां के हाथ का ही खाऊंगी।

 

सुनते ही सुधीर ने कहा जी जरूर मैडम मेरे रहते आप क्यों चाय पिलाएंगी। मैं अभी तुरंत आपको सबसे मजेदार चाय बनाकर पिलाता हूं। जूही ने कहा तो आओ रसोई में। फिर दोनों रसोई घर में चले गए। जूही ने बता दिया चाय, चीनी कहां रखा हुआ है। सुधीर चाय बनाने लगा। जूही ने कहा तुम एक दो दिन के बाद मेरे ऑफिस के बड़े बाबू से मिल लेना। तुम्हारे लिए सवारी गाड़ी के लिए लोन देने हेतु उनको बोल दिया है। तुम उनसे मिलकर फार्म भरवाकर बैंक मैनेजर को दे देना मैं भी उसमें साइन कर दूंगी। उम्मीद है तुम्हारा लोन पास हो जायेगा। तुम गाड़ी लेकर एक ड्राइवर रख लेना और शहर से स्टेशन तक चलाते रहना। मगर याद रहे मेरी अनुशंसा पर तुम्हें लोन मिलेगा तो तुम्हें, बैंक का कर्जा समय पर चुका देना।

उत्तर प्रदेश के कवि- कवियित्री प्रेरणा हिंदी सभा में शामिल uttar pradesh ke kavi- kaviyitree prerana hindee sabha mein shaamil
READ

 

जी जरूर मैडम। मगर आपको सारी बातें कैसे याद रहतीं हैं। मैं तो भूल ही गया था कि आपने मुझे गाड़ी दिलाने को कहा था। सुधीर ने खुश होते हुए कहा।

 

अच्छा एक बात बताओ जूही ने पूछा सच सच बताना। जी पूछिए मैडम।

 

तुमने किसी लड़की से प्यार किया है क्या। सुनते ही सुधीर चौक गया। उसने सोचा मैडम ने ये कैसा सवाल कर दिया।

 

अरे नहीं मैडम इन सब बातो के लिए फुर्सत ही कहां मिली। मेरे पापा के गुजरने के बाद घर की सारी जिम्मेवारी मेरे कंधों पर आ गई। फिर मैं घर और अपनी पढ़ाई में उलझ कर रह गया। तभी तो स्टेशन पर चाय बेच रहा था।

 

सुधीर ने गंभीर होकर कहा।

 

फिर भी किसी लड़की ने तुम्हें प्रपोज किया हो। जूही ने उसकी तरफ देखते हुए पूछा।

 

जी मैडम एक लड़की है वो मुझे बहुत परेशान करती है। मगर इतने बड़े बाप की बेटी है कि उससे बचकर रहना पड़ता है मुझे।

 

इतना सुनते ही जूही उछल पड़ी क्या कहा, कौन है वो लड़की। सच सच बताओ क्या तुम भी उससे प्यार करते हो। अगर झूठ बोला तो मैं तुम्हारी जान ले लूंगी और उसने लपक कर सुधीर का कॉलर पकड़ लिया।

 

इस अचानक हमले से सुधीर घबड़ा गया। उसे जूही से इस हरकत की जरा भी उम्मीद नहीं थी।

 

मैं सच कह रहा हूं मैडम मेरा विश्वास करें। मैं आपसे झूठ क्यों बोलूंगा।

 

जूही ने उसकी आंखों में देखा उसे उसकी बातों में सच्चाई नजर आई। ठीक है थोड़ी देर के लिए मैं मान लेती हूं तुम सच कह रहे हो अब उसका नाम बताओ।

 

जया उसका नाम जया है मैडम। सुधीर ने धीरे से कहा।

 

और वो दिखती कैसी है, जूही ने उत्सुकतावस पूछा। मुझे उसका फोटो दिखाओ। जूही ने उसका कॉलर पकड़े हुए पूछा।

 

जी दिखाता हूं मैडम। वो मुझे हमेशा कोई न कोई फोटो भेजते रहती है।

 

फिर सुधीर ने अपनी जेब से मोबाइल निकाल कर जूही को जया का फोटो दिखा दिया। फोटो में जया बेहद खूबसूरत और स्मार्ट लग रही थी।

 

ठीक है जूही ने जया का फोटो देखते हुए कहा। इससे तुम कब मिले जो ये तुम्हारी दीवानी हो गई। मैडम कॉलेज में मिले थे तबसे ये मेरे पीछे पड़ी हुई है। बहुत बिगड़ी हुई लडकी है। हर तरह का नशा करती है। इससे कॉलेज में सभी डरते थे। क्योंकि इसका बाप भी बडा दबंग और खतरनाक नेता है। उससे भी क्षेत्र में सभी डरते हैं मैडम।

 

क्या नाम है उसके पिता का बताओ जल्दी जूही ने जल्दी से पूछा।

 

विधायक मनमोहन गुप्ता है मैडम।

 

इतना सुनते ही जूही ने सुधीर का कॉलर झटके से छोड़ दिया और आश्चर्य से सुधीर को देखती रह गई। उसके मुंह से निकला क्या बोल रहे हो तुम।

 

फिर उसने अपना सिर पकड़ लिया।

 

क्या हुआ मैडम आप इतना टेंशन में क्यों आ गई उसने चाय का कप उसकी तरफ बढ़ाते हुए कहा।

 

जूही ने चाय का कप पकड़ते हुए कहा – कुछ नहीं।

 

अच्छा छोड़ो इन सारी बातों को चलो बैठक खाने में वहीं बैठकर चाय पीते हैं।

 

जूही अब काफी गंभीर हो गई थी।

कहानी, जूही की महक भाग -11, लेखक- श्याम कुंवर भारती kahaanee, joohee kee mahak bhaag -11, lekhak- shyaam kunvar bhaaratee
READ

 

कहानी का नवमां भाग पढ़े अगले अंक में 

 

 

श्याम कुंवर भारती

Shyam Kunwar Bharti


 

 

Who is that girl… if she lied, I will kill you and she grabbed Sudhir’s collar… read the 8th part of the story Juhi Ki Mehek

 

 

Juhi called the elder babu of her office at her residence. He also called Sudhir and asked him to come.

 

After a while Bade Babu appeared. He told Bade Babu – Bade Babu, my district has become the most talked about, don’t you worry, you will help me in the matter of the district MLA. But in the case of MLA, we all have to work after thinking carefully. You should first arrange for my meeting with the MLA. After this, hold a meeting of all the officers and employees related to the matter. Also, hold meetings with all the chiefs and members of the Panchayat Samiti under the block. Prepare everything and report to me in two to three days. Bade Babu said, Sir, I will inform you after getting all the preparations done.

 

And one more thing to do now Sudhir will have to come talk to a bank and see if anyone can give him a loan for a four wheeler vehicle on my recommendation, then talk to me and tell me. I will sign wherever you tell me. Surely madam, I send an employee to the bank to find out. By the way, lakhs and crores of rupees are lying in almost the banks of the block, there should be no problem in giving them a small loan. Still, I will tell you after talking and saying this, he left.

 

Then Sudhir also reached there. He saluted Juhi and asked, Madam, you have called. Juhi smiled seeing Sudhir and said that you have come now. Stay for a while, it will take some time to recite the heart. On hearing this, Sudhir said – Wow, madam, you do poetry too. I hear and speak just like this. Come sit, Juhi said happily. As soon as Sudhir sat down, he asked – how are aunty and your siblings. Sorry, I have become so busy here that I was not able to talk to you. All are very good ma’am. My mother is always worried about you. You have given me a million work as soon as I came, how can I thank you, madam. Thank you Sudhir.

 

If you want to thank you, then do one thing, either you make me a cup of tea or I make it and drink it. My cook has not come today. Today I will eat food from your mother’s hand.

 

On hearing this, Sudhir said, definitely madam, why would you drink tea while I am? Let me just make and drink the funniest tea for you right now. Juhi said then come to the kitchen. Then both went to the kitchen. Juhi told where the tea and sugar are kept. Sudhir started making tea. Juhi said after a day or two you should meet the elder babu of my office. Have told them to give you a loan for the passenger car. You meet them and fill the form and give it to the bank manager, I will also sign it. Hope your loan will be passed. You take the car and hire a driver and keep driving from the city to the station. But remember, if you get a loan on my recommendation, then you should repay the bank loan on time.

रावतभाटा की बेटी डॉ. रूपा व्यास राज्य स्तर पर सम्मानित raavatabhaata kee betee do. roopa vyaas raajy star par sammaanit
READ

 

Sure ma’am. But how do you remember everything? I had forgotten that you had asked me to get the car. Sudhir said happily.

 

Well tell me one thing Juhi asked to tell the truth. Ask me ma’am.

 

Have you loved any girl? Sudhir got shocked on hearing this. He thought how did madam ask this question.

 

Oh no madam, where did you get the time for all these things? After my father passed away, all the responsibility of the house fell on my shoulders. Then I got stuck at home and my studies. That’s when he was selling tea at the station.

 

Sudhir said seriously.

 

Still some girl has proposed you. Juhi asked looking at him.

 

Yes ma’am she is a girl, she bothers me a lot. But I am the daughter of such an elder father that I have to stay away from her.

 

Juhi jumped on hearing this, what did she say, who is that girl. Tell the truth, do you love her too? If I lie, I will take your life and he grabbed Sudhir’s collar by grabbing him.

 

Sudhir was terrified by this sudden attack. He did not expect any such act from Juhi.

 

I am telling the truth madam believe me. Why would I lie to you?

 

Juhi looked into his eyes and saw the truth in his words. Okay, for a while, I’ll assume you’re telling the truth, now tell me his name.

 

Jaya Her name is Jaya madam. Sudhir said softly.

 

And how does she look, Juhi asked curiously. Show me his photo. Juhi asked holding his collar.

 

I’ll show you madam. She always keeps sending me some photos or the other.

 

Then Sudhir took out the mobile from his pocket and showed Jaya’s photo to Juhi. Jaya was looking very beautiful and smart in the photo.

 

Ok Juhi said looking at Jaya’s photo. When did you meet this person who became your addict? Madam, it has been after me since we met in college. Very spoiled girl. All kinds of intoxicants. This scared everyone in college. Because his father is also a very powerful and dangerous leader. Everyone in the area is afraid of that too, madam.

 

Tell what is his father’s name, Juhi quickly asked.

 

MLA Manmohan Gupta is madam.

 

On hearing this, Juhi released Sudhir’s collar in shock and kept looking at Sudhir in surprise. What are you saying that came out of his mouth?

 

Then he held his head.

 

What happened ma’am, why did you get so tense, she said while raising the cup of tea towards her.

 

Holding the cup of tea, Juhi said – nothing.

 

Well leave all these things, let’s drink tea while sitting there in the dining room.

 

Juhi had become very serious now.

 

Read the ninth part of the story in the next issue

 

 

बीजेपी ने लोधी का निष्कासन कर बताई उनकी हैसियत, भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद जमकर बरसे भाजपा पर beejepee ne lodhee ka nishkaasan kar bataee unakee haisiyat, bheem aarmee cheeph chandrashekhar aajaad jamakar barase bhaajapa par

 

 

 

Related Articles

Back to top button