.

हरिजन शब्द की जगह अब डॉ. आंबेडकर का इस्तेमाल, अधिसूचना जारी harijan shabd kee jagah ab do. aambedakar ka istemaal, adhisoochana jaaree

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | हरिजन शब्द की जगह ‘डॉ आंबेडकर’ के इस्तेमाल का फैसला दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने लिया है। इसको लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है। हरिजन बस्ती / मोहल्लों को अब से डॉ. आंबेडकर बस्ती / मोहल्ला बुलाया जाएगा। इससे पहले आम आदमी पार्टी की सरकार ने दिल्ली सरकार के सभी दफ्तरों में डॉ. आंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीर लगाने का आदेश दिया था।

 

एक अनुमान के मुताबिक दिल्ली में दलितों की आबादी करीब 16.75 फीसदी है। केजरीवाल सरकार के इस फैसले को आगामी नगर निगम चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है। इसके अलावा पंजाब में भी पार्टी को दलितों के एक बड़े तबके का साथ मिला है।

 

इन दिनों अरविंद केजरीवाल जब भी प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए मीडिया के सामने आते हैं तो उनके पीछे एक तरफ भगत सिंह और दूसरी तरफ भारत रत्न व संविधान निर्माता डॉ. आंबेडकर नजर आते हैं। वह AAP को इन दो महापुरुषों के आदर्शों पर चलने वाली पार्टी बता रहे हैं। कुछ राजनीतिक जानकारों और विपक्षी नेता तो यह भी कहते हैं कि इन दिनों अरविंद केजरीवाल का सिर्फ नीली शर्ट में दिखना भी इसी रणनीति का हिस्सा है।

 

राजनीतिक जानकारों की मानें तो केजरीवाल सरकार का यह फैसला उस रणनीति का हिस्सा है जिसके तहत अरविंद केजरीवाल दलित वोटर्स को साधने की कोशिश कर रहे हैं। दिल्ली और पंजाब में सरकार बनाने के बाद आम आदमी पार्टी अब देश के दूसरे हिस्सों में विस्तार की योजना पर काम कर रही है।

 

 

दलित युवती के अपहरण मामले में प्रयागराज आईजी इलाहाबाद हाईकोर्ट में तलब, लापरवाही पर 2 दरोगा सस्पेंड | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

Dr. Ambedkar is now used in place of Harijan, notification issued

 

 

New Delhi | [National Bulletin] | The Arvind Kejriwal government of Delhi has taken the decision to use ‘Dr Ambedkar’ in place of the word Harijan. Notification has been issued regarding this. Harijan Basti / Mohalla will henceforth be called Dr. Ambedkar Basti / Mohalla. Earlier, the Aam Aadmi Party government had ordered the installation of photographs of Dr. Ambedkar and Bhagat Singh in all the offices of the Delhi government.

 

 

According to an estimate, the Dalit population in Delhi is about 16.75 percent. This decision of the Kejriwal government is also being linked to the upcoming municipal elections. Apart from this, the party has also got the support of a large section of Dalits in Punjab.

 

These days, whenever Arvind Kejriwal comes in front of the media through a press conference, Bhagat Singh is seen behind him on one side and Bharat Ratna and Constitution maker Dr. Ambedkar on the other. He is describing AAP as a party running on the ideals of these two great men. Some political experts and opposition leaders also say that these days Arvind Kejriwal’s appearance in only blue shirt is also part of this strategy.

 

According to political experts, this decision of the Kejriwal government is part of the strategy under which Arvind Kejriwal is trying to reach out to the Dalit voters. After forming the government in Delhi and Punjab, the Aam Aadmi Party is now working on a plan to expand to other parts of the country.

उदयपुर में धूमधाम से मनाई गई भारत रत्न डॉ. बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की 131 वीं जयंती समारोह | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

 

OBC प्रमाण पत्र नौकरी के लिए कटआफ तारीख से पहले और बाद बने दोनों वैध obch pramaan patr naukaree ke lie kataaph taareekh se pahale aur baad bane donon vaidh

 

 

Related Articles

Back to top button