.

जानें वे 5 कारण जिनसे आर्यन खान को मिली क्लीन चिट jaanen ve 5 kaaran jinase aaryan khaan ko milee kleen chit

मुंबई | [नेशनल बुलेटिन] | मुंबई ड्रग बस्ट मामले में NCB (नारकोटिक्स ब्यूरो) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के 8 महीने बाद मन्नत के लिए शुक्रवार का दिन बड़ी राहत लेकर आया। एनसीबी की जांच टीम ने शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को क्लीन चिट दे दी। एनसीबी ने बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे सहित 5 अन्य को NCB (नारकोटिक्स ब्यूरो) द्वारा दायर आरोपपत्र में शामिल नहीं किया गया है।

 

यहां जानिए वो 5 वजहें जो आर्यन खान को मिली क्लीन चिट का कारण बनी। न ही वॉट्सऐप चैट मिला और न ही कोई वीडियो रिकॉर्ड। चलिए जानते हैं उन 5 कारणों को…

 

अरबाज मर्चेंट के बयान से पलटी बाजी!

 

नारकोटिक्स ब्यूरो ने अदालत में बताया था कि आर्यन खान अपने दोस्त अरबाज मर्चेंट से कंट्राबेंड खरीदता था, जो एसआईटी द्वारा चार्जशीट किए गए 14 लोगों में शामिल है। तत्कालीन जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के नेतृत्व वाली पिछली जांच टीम आरोपों को साबित नहीं कर पाई थी। उनके मुताबिक, अरबाज ने अधिकारियों को बताया कि आर्यन खान ने उन्हें ड्रग्स न लाने के लिए कहा था। उन्होंने कहा, “आर्यन के खिलाफ नशीली दवाओं के प्रयोग का आरोप नहीं लगा।”

 

वॉट्सऐप चैट में ऐसे बचे आर्यन खान

 

एनसीबी टीम ने वॉट्सऐप चैट का हवाला देते हुए अदालत को बताया था कि आर्यन खान एक अंतरराष्ट्रीय ड्रग रैकेट का हिस्सा था और उसने ड्रग्स की खरीद के लिए भुगतान के तरीकों के बारे में बताया। एसआईटी जांच में पाया गया कि खान के फोन पर वॉट्सऐप चैट ने भी उन्हें मामले से नहीं जोड़ा है। “अदालतों ने कहा है कि वॉट्सऐप चैट को प्राथमिक सबूत के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।”

 

वानखेड़े टीम से क्या हुई गलती

 

एनसीबी के उप महानिदेशक ने पिछली एनसीबी टीम द्वारा की गई जांच में 3 प्रमुख कमियों की ओर इशारा किया। सबसे पहले, वानखेड़े की टीम ने कॉर्डेलिया क्रूज बस्ट पर किए गए छापे को रिकॉर्ड नहीं किया।

 

दूसरा, आर्यन खान समेत किसी का भी मेडिकल परीक्षण नहीं कराया गया। आरोपियों के मोबाइल फोन की बरामदगी में भी खामियां पाई गईं।

 

और तीसरा आर्यन के फोन से वॉट्सऐप चैट कानूनी प्रक्रियाओं का पालन किए बिना इस्तेमाल किया गया।

 

वानखेड़े ने कोरे कागज में कराए थे साइनः प्रभाकर

 

मामले के गवाहों में से एक प्रभाकर सेल ने एसआईटी को बताया था कि उसे वानखेड़े के नेतृत्व वाली पिछली जांच टीम द्वारा कोरे कागजों पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया था। इसी तरह के आरोपों के तहत गिरफ्तारियां की गईं जो कानूनी रूप से मान्य नहीं थीं। प्रभाकर सेल का 2 अप्रैल को उनके आवास पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था।

 

आयोजकों को भी नहीं थी ड्रग्स की जानकारी

 

गिरफ्तार किए गए 4 कॉर्डेलिया कार्यक्रम के आयोजकों को किसी भी ड्रग्स के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उन्होंने कहा, “हमने उनके अनुबंध की जांच की और पाया कि वे तलाशी लेने, जांच करने और यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार नहीं थे कि बोर्डिंग लोग क्रूज पर ड्रग्स का सेवन करने जा रहे थे।”

Know 5 reasons why Aryan Khan got clean chit

 

Mumbai | [National Bulletin] | Eight months after he was arrested by the NCB (Narcotics Bureau) in the Mumbai drug bust case, Friday brought a big relief for Mannat. NCB investigation team gives clean chit to Shahrukh Khan’s son Aryan Khan. NCB has not included 5 others including Bollywood superstar Shah Rukh Khan’s son in the chargesheet filed by NCB (Narcotics Bureau).

 

Know here 5 reasons that led to Aryan Khan’s clean chit. Neither WhatsApp chat nor any video record was found. Let’s know those 5 reasons…

 

 Arbaaz Merchant’s statement backfired!

 

The Narcotics Bureau had told the court that Aryan Khan used to buy contraband from his friend Arbaaz Merchant, who is one of the 14 people chargesheeted by the SIT. The previous investigation team headed by the then zonal director Sameer Wankhede could not prove the allegations. According to him, Arbaaz told the officials that Aryan Khan had asked him not to bring drugs. “There is no allegation of drug use against Aryan,” he said.

 

This is how Aryan Khan survived in WhatsApp chat

 

The NCB team had told the court, citing a WhatsApp chat, that Aryan Khan was part of an international drug racket and explained the modes of payment for the purchase of drugs. The SIT probe found that even the WhatsApp chats on Khan’s phone did not link him to the case. “The courts have held that WhatsApp chats cannot be used as primary evidence.”

 

 What happened to the Wankhede team?

 

The Deputy Director General of NCB pointed out 3 major deficiencies in the investigation conducted by the previous NCB team. Firstly, the Wankhede team did not record the raid on the Cordelia cruise bust.

 

Second, no one, including Aryan Khan, was medically examined. Defects were also found in the recovery of mobile phones of the accused.

 

And third, WhatsApp chat from Aryan’s phone was used without following legal procedures.

 

 Wankhede had signed on blank paper: Prabhakar

 

Prabhakar Cell, one of the witnesses in the case, had told the SIT that he was asked to sign blank papers by the previous investigation team led by Wankhede. Arrests were made under similar charges that were not legally valid. Prabhakar Cell died of a heart attack on April 2 at his residence.

 

 Even the organizers did not know about the drugs

 

The organizers of the 4 Cordelia event that were arrested had no knowledge of any drugs. “We examined their contract and found that they were not responsible for conducting searches, checking and making sure that the people on board were going to consume drugs on the cruise,” he said.

 

 

मुस्लिम शख्स शेख जफर ने अपनाया हिंदू धर्म, अब कहलाएंगे चैतन्य सिंह राजपूत muslim shakhs shekh japhar ne apanaaya hindoo dharm, ab kahalaenge chaitany sinh raajapoot

 

Related Articles

Back to top button