.

पुलिस मेडल से हटी शेख अब्दुल्ला की तस्वीर, अब होगा अशोक स्तंभ pulis medal se hatee shekh abdulla kee tasveer, ab hoga ashok stambh

श्रीनगर | [नेशनल बुलेटिन] | उत्कृष्ट सेवा के लिए प्रदान किए जाने वाले पुलिस सेवा मेडल से शेख अब्दुल्ला की तस्वीर हटाने का फैसला जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने लिया है। इस पर नेशनल कॉन्फ्रेंस भड़क गई है और इसे गलत फैसला करार दिया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कहा कि यह फैसला जम्मू-कश्मीर के इतिहास को मिटाने की कोशिश है, लेकिन वह शेख अब्दुल्ला हमेशा लोगों के दिलों में रहेंगे।

 

बता दें कि सोमवार को ही इस संबंध में गृह मंत्रालय की ओर से आदेश दिया गया था और अब जम्मू-कश्मीर पुलिस सेवा मेडल्स में शेख अब्दुल्ला की बजाय भारत के राष्ट्रीय चिह्न अशोक स्तंभ को उकेरा जाएगा।

 

नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रवक्ता इमरान नबी डार ने कहा, ‘राष्ट्रीय चिह्न के प्रति पूरा सम्मान व्यक्ति करते हुए मैं कहना चाहूंगा कि सरकार ने इतिहास, पहचान और हमारे नायकों की पहचान को मिटाने की कोशिश के तहत ही यह कदम उठाया है।’ डार ने कहा कि नामों को हटाने से कुछ भी नहीं बदलेगा बल्कि नेशनल कॉन्फ्रेंस के संस्थापक शेख अब्दुल्ला हमेशा लोगों के दिलों पर राज करते रहेंगे।

 

उन्होंने कहा कि आज जम्मू-कश्मीर के लोग जहां भी हैं, उसके लिए उन्होंने लंबा संघर्ष किया है। उन्होंने हमेशा ही तानाशाही और उत्पीड़न के खिलाफ जंग लड़ी है। इसे कोई भी बदल नहीं सकता। नाम बदलकर या उनके स्थान पर कुछ और लाकर इसे बदला नहीं जा सकता।

 

NC बोली- हमेशा लोगों के दिलों में रहेंगे

 

शेख अब्दुल्ला हमेशा लोगों के दिलों में रहेंगे। भले ही जम्मू कश्मीर का प्रशासन और उनके आका कुछ भी फैसला ले लें। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने आदेश दिया है कि पुलिस सेवा मेडल में अब शेख अब्दुल्ला की तस्वीर नहीं होगी बल्कि अशोक स्तंभ बना होगा।

 

यही नहीं अब इसका नाम भी शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल नहीं होगा बल्कि जम्मू एवं कश्मीर पुलिस मेडल होगा। इस फैसले का भाजपा समेत कई संगठनों ने स्वागत किया है, जबकि नेशनल कॉन्फ्रेंस ने विरोध किया है। शेख अब्दुल्ला नेशनल कॉन्फ्रेंस के संस्थापक थे और कश्मीर के मुख्यमंत्री भी थे।

 

 

 

Picture of Sheikh Abdullah removed from police medal, now there will be Ashoka Pillar

 

 

Srinagar | [National Bulletin] | The Jammu and Kashmir administration has taken the decision to remove the picture of Sheikh Abdullah from the Police Service Medal for outstanding service. The National Conference has erupted on this and has called it a wrong decision. The National Conference said that this decision is an attempt to erase the history of Jammu and Kashmir, but that Sheikh Abdullah will always be in the hearts of the people.

 

Let us inform that on Monday itself, an order was given by the Ministry of Home Affairs in this regard and now instead of Sheikh Abdullah, the National Emblem of India, Ashoka Pillar will be engraved in the Jammu and Kashmir Police Service Medals.

 

National Conference spokesperson Imran Nabi Dar said, “Having full respect for the national emblem, I would like to say that the government has taken this step as an attempt to erase the history, identity and identity of our heroes.” Dar said that deleting the names will not change anything but National Conference founder Sheikh Abdullah will always rule the hearts of the people.

 

He said that wherever the people of Jammu and Kashmir are today, they have fought a long struggle for it. He has always fought against dictatorship and oppression. Nobody can change it. It cannot be changed by changing the name or replacing it with something else.

 

 NC quote – will always be in the hearts of people

 

Sheikh Abdullah will always be in the hearts of the people. Even if the administration of Jammu and Kashmir and their bosses take any decision. Significantly, the Jammu and Kashmir administration has ordered that the police service medal will no longer have the picture of Sheikh Abdullah, but will be made of Ashoka Pillar.

 

Not only this, now its name will also not be Sher-e-Kashmir Police Medal but Jammu and Kashmir Police Medal. This decision has been welcomed by many organizations including the BJP, while the National Conference has opposed it. Sheikh Abdullah was the founder of the National Conference and was also the Chief Minister of Kashmir.

 

छत्तीसगढ़ में 11 KM लंबी चुनरी चढ़ा बनाया कीर्तिमान, टूट गया मध्य प्रदेश का रिकॉर्ड chhatteesagadh mein 11 km lambee chunaree chadha banaaya keertimaan, toot gaya madhy pradesh ka rikord

 

Related Articles

Back to top button