.

बिना वाद्य यंत्र का लोक नृत्य माकू हिमीशी, रोमन विजेताओं की तरह टोप पहने नागा लोककलाकारों ने दी प्रस्तुति | ऑनलाइन बुलेटिन

रायपुर | [धर्मेंद्र गायकवाड़] | बिना वाद्य यंत्रों के भी नागालैंड के लोक कलाकारों ने युद्ध के पश्चात विजय से लौट रही सेनाओं के अपूर्व उत्साह का प्रदर्शन करती सेना की अभिव्यक्ति अपने सुंदर नृत्य के माध्यम से दी।

 

लड़ाई में जीत अथवा शिकार के बाद होती है प्रस्तुति, महिलाएं पुरुष विजेताओं के स्वागत में करती हैं लोकनृत्य।

 

माकू हिमीशी का प्रदर्शन नागा पुरुषों द्वारा शिकार में सफलता मिलने के बाद अथवा लड़ाई में विजय के पश्चात किया जाता है। जैसे छत्तीसगढ़ में गौर नृत्य होता है उसी प्रकार नागालैंड में शिकार अथवा लड़ाई में सफलता मिलने पर जश्न खास लोकनृत्य के माध्यम से मनाया जाता है।

 

इसमें अपने पारंपरिक अस्त्र शस्त्र से सजे पुरुष जीत की अभिव्यक्ति लोक नृत्य के माध्यम से करती हैं। उनके परिवार की महिलाएं उनका उत्साह बढ़ाने स्वागत में नृत्य करती हैं और चारों तरफ उत्साह का वातावरण बन जाता है।

 

उल्लेखनीय है कि विजय से उपजा उत्साह इतने अतिरेक में होता है कि लोकधुन के लिए गुंजाइश ही नहीं होती और यह उत्साह पूरे माहौल में खुशियां बिखेर जाता है।

 

इस नृत्य की खासियत है लोककलाकारों की वेशभूषा। पारंपरिक नागा परिधान के साथ इनकी टोपियां इस प्रकार से थीं जैसे रोमन सैनिकों की होती थी।

 

कोई भी यूरोप का दर्शक यदि इस नृत्य को देखे तो महसूस करेगा कि जूलियस सीजर के युद्ध से लौटने का दृश्य है और उसका स्वागत अभूतपूर्व उत्साह और परंपरागत ढंग से हो रहा है। इस नृत्य ने दर्शकों के बीच अपनी खास जगह छोड़ी।

छत्तीसगढ़ की 2 बिजली कंपनियों का होगा विलय, उज्ज्वला बघेल स्टेट पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी की बनीं MD chhatteesagadh kee 2 bijalee kampaniyon ka hoga vilay, ujjvala baghel stet povar traansamishan kampanee kee baneen md
READ

 

ये भी पढ़ें:

महाराष्ट्र के नर्तक दल धनगरी ग़ज़ा नामक लोक नृत्य कर आदिवासी नृत्य महोत्सव में लुभा रहे मन | ऑनलाइन बुलेटिन

 

Related Articles

Back to top button