.

ज्ञानवापी परिसर में मुस्लिमों का प्रवेश रोकने की मांग पर सुनवाई 14 तक टली gyaanavaapee parisar mein muslimon ka pravesh rokane kee maang par sunavaee 14 tak talee

वाराणसी | [कोर्ट बुलेटिन] | ज्ञानवापी परिसर में मुस्लिमों के प्रवेश पर रोक की अर्जी पर शुक्रवार को वाराणसी की अदालत में सुनवाई हुई। सुनवाई फिलहाल 14 जुलाई 2022 तक टल गई है। परिसर को हिंदुओं को सौंपने समेत 3 बिंदुओं पर याचिका सिविल जज (फास्ट ट्रैक) कोर्ट में दाखिल की गई है। विश्व वैदिक सनातन संघ सहित 3 अन्य लोगों की ओर से यह अर्जी दी गई है। प्रतिवादी ने अदालत में आपत्ति दर्ज करने के लिए समय मांगा। इसके बाद अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 14 जुलाई की तिथि तय कर दी है।

 

विश्व वैदिक सनातन संघ की महासचिव और आदि विश्वेश्वर की वाद मित्र किरण सिंह, वादी विकास साह व विद्याचंद ने अदालत में 77 पेज और 122 पैरा में वाद दिया था। उसमें मांग की गई है कि मुस्लिम पक्ष को ज्ञानवापी परिसर में प्रवेश से प्रतिबंधित किया जाए। ज्ञानवापी परिसर हिन्दुओं को पूजा-पाठ करने के लिए सौंपा जाए और भगवान आदिविश्वेश्वर की प्रतिदिन पूजा-अर्चना तत्काल शुरु की जाए।

 

वादी ने कोर्ट कमीशन कार्यवाही की रिपोर्ट की भी दलील दी। मामले में सुनवाई 30 मई को होनी थी, लेकिन जिला जज ने मुकदमे को फास्ट ट्रैक कोर्ट महेन्द्र कुमार पांडेय की अदालत में स्थानांतरित कर दिया। फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई पर वादी ने अपना पक्ष रखना शुरू किया तो प्रतिवादी अधिवक्ता ने विरोध किया कि उन्हें वाद की प्रति उपलब्ध नहीं कराई गई है।

 

वाद पत्र की प्रति मिलने के बाद प्रतिवादी अधिवक्ता ने समय देने का अनुरोध किया। अदालत ने जून में सिविल की सुनवाई बंद रहने के ध्यान में रखते हुए 8 जुलाई 2022 की तिथि निर्धारित कर दी थी।

 

 

Hearing on the demand to stop the entry of Muslims in Gyanvapi campus adjourned till 14

 

 

Varanasi | [Court Bulletin] | Hearing on the application for ban on entry of Muslims in Gyanvapi campus was held in Varanasi court on Friday. The hearing is currently adjourned till July 14, 2022. The petition has been filed in the Civil Judge (Fast Track) Court on 3 points including handing over the premises to Hindus. This application has been given on behalf of 3 others including Vishwa Vedic Sanatan Sangh. The respondent sought time to file the objection in the court. After this, the court has fixed July 14 for the next hearing.

 

Kiran Singh, the general secretary of Vishwa Vaidik Sanatan Sangh and the litigant of Adi Vishweshwar, litigants Vikas Sah and Vidyachand had argued in the court in 77 pages and 122 paras. It has demanded that the Muslim side should be banned from entering the Gyanvapi campus. Gyanvapi premises should be handed over to Hindus for worship and daily worship of Lord Adivishwar should be started immediately.

 

The plaintiff also argued for the report of the court commission proceedings. The hearing in the case was to be held on May 30, but the district judge transferred the trial to the fast track court of Mahendra Kumar Pandey. On hearing in the fast track court, the plaintiff started presenting his side, then the respondent advocate protested that the copy of the suit has not been provided to him.

 

After getting the copy of the plaint, the respondent advocate requested for time. In June, the court had fixed July 8, 2022, keeping in mind the closure of civil hearings.

 

 

 

हाईकोर्ट ने कहा- निचली अदालतों के रोजमर्रा के कामकाज को नहीं कर सकते नियंत्रित haeekort ne kaha- nichalee adaalaton ke rojamarra ke kaamakaaj ko nahin kar sakate niyantrit

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button