.

नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणी वापस लेने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर noopur sharma par kee gaee talkh tippanee vaapas lene supreem kort mein yaachika daayar

नई दिल्ली | [कोर्ट बुलेटिन] | एक सामाजिक कार्यकर्ता अजय गौतम ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। (Supreme court on nupur sharma) जिसमें गौतम ने सुप्रीम कोर्ट से सुनवाई के दौरान नूपुर शर्मा के लिए की गई टिप्पणी को वापस लेने की मांग की है।

 

सीजेआई को भेजी याचिका में कहा गया है कि इससे नूपुर को जान का खतरा है। सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था कि नूपुर शर्मा को टीवी पर देश से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए। उनके बयान के कारण ही देश में आग लगी है। उदयपुर की घटना के लिए भी उनका बयान ही जिम्मेदार है।

 

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में नूपुर शर्मा की ओर से याचिका दायर की गई थी। जिसमें मांग की गई कि उनके खिलाफ दर्ज केस देश के विभिन्न हिस्सों में दर्ज हैं। क्योंकि उनकी जान को खतरा है इसलिए उनका केस दिल्ली में ट्रांसफर किया जाए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की और कहा कि इसे पहले हाई कोर्ट में दायर किया जाना था।

 

नूपुर शर्मा टीवी पर माफी मांगे

 

सुप्रीम अदालत ने नूपुर शर्मा को फटकार लगाते हुए कहा कि उनके ही एक बयान के चलते माहौल खराब हो गया। नूपुर शर्मा ने माफी मांगने में देरी कर दी और उनके चलते ही दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं।

 

न्यायमूर्ति सूर्य कांत और न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला की बेंच ने पैगंबर के खिलाफ टिप्पणी के लिए विभिन्न राज्यों में दर्ज प्राथमिकियों को एक साथ जोड़ने की शर्मा की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। उन्हें याचिका वापस लेने की अनुमति दी। इसके साथ ही नूपुर शर्मा ने अदालत से अपनी अर्जी को वापस ले लिया।

 

फेयर ट्रायल का मौका मिले

 

अब सुप्रीम कोर्ट में एक नई याचिका दायर की गई है। सामाजिक कार्यकर्ता अजय गौतम की ओर से दायर याचिका में मांग की गई है कि नूपुर शर्मा केस में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को वापस लिया जाना चाहिए। याचिका में इसके पीछे तर्क दिया गया है कि इससे नूपुर शर्मा की जान को खतरा है। उन्हें फेयर ट्रायल का मौका मिलना चाहिए।

 

 

 

Petition filed in Supreme Court to withdraw harsh remarks made on Nupur Sharma

 

 

New Delhi | [Court Bulletin] | A social activist Ajay Gautam has filed a petition in the Supreme Court. (Supreme court on nupur sharma) In which Gautam has demanded from the Supreme Court to withdraw the remarks made for Nupur Sharma during the hearing.

 

In the petition sent to the CJI, it has been said that Nupur’s life is in danger due to this. The Supreme Court, while making a scathing remark, said that Nupur Sharma should publicly apologize to the country on TV. It is because of his statement that the country is on fire. His statement is also responsible for the Udaipur incident.

 

On Friday, a petition was filed on behalf of Nupur Sharma in the Supreme Court. In which it was demanded that the cases registered against him are registered in different parts of the country. Because his life is in danger, so his case should be transferred to Delhi. But the Supreme Court expressed displeasure and said that it had to be filed in the High Court first.

 

 Nupur Sharma apologizes on TV

 

The Supreme Court reprimanded Nupur Sharma, saying that due to one of her statements, the atmosphere got spoiled. Nupur Sharma delayed apologizing and it is because of her that unfortunate incidents have happened.

 

A bench of Justices Surya Kant and J B Pardiwala refused to entertain Sharma’s plea to club together the FIRs lodged in different states for the remarks against the Prophet. He was allowed to withdraw the petition. With this Nupur Sharma withdrew her application from the court.

 

 get chance for fair trial

 

Now a new petition has been filed in the Supreme Court. The petition filed by social activist Ajay Gautam has demanded that the Supreme Court’s observation should be withdrawn while hearing the Nupur Sharma case. It has been argued in the petition that there is a threat to the life of Nupur Sharma. They should get a chance for fair trial.

 

बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा को TV पर माफी का आदेश; पढ़ें सुप्रीम कोर्ट की 10 बड़ी बातें beejepee kee nilambit pravakta noopur sharma ko tv par maaphee ka aadesh; padhen supreem kort kee 10 badee baaten

 

 

 

Related Articles

Back to top button