.

पनीरसेल्वम AIADMK पर वर्चस्व की जंग हारे, पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव paneeraselvam aiadmk par varchasv kee jang haare, palaaneesvaamee bane antarim mahaasachiv

चेन्नई | [कोर्ट बुलेटिन] | मद्रास हाईकोर्ट से तमिलनाडु में AIADMK पर वर्चस्व की जंग लड़ रहे पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, मद्रास हाईकोर्ट द्वारा जनरल काउंसिल की बैठक की मंजूरी मिलने के बाद एडप्पादी के. पलानीस्वामी को AIADMK का अंतरिम महासचिव चुन लिया गया। बैठक में AIADMK जनरल काउंसिल ने महासचिव पद को फिर से स्थापित करने और पार्टी के प्राथमिक सदस्यों द्वारा पद के लिए एक व्यक्ति का चुनाव सुनिश्चित करने के लिए प्रस्ताव पारित किया है। चुनाव 4 महीने बाद होगा।

 

इसके अलावा बैठक में पार्टी के दोहरे नेतृत्व को खत्म करने और पार्टी के लिए उप महासचिव पद सृजित करने का प्रस्ताव पारित किया। बता दें कि आज सुबह पनीरसेल्वम को उस समय झटका लगा जब मद्रास हाईकोर्ट ने बैठक की मंजूरी दे दी। इस फैसला के बाद ही उनकी हार तय मानी जा रही थी।

 

पनीरसेल्वम पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित

 

AIADMK जनरल काउंसिल की बैठक में ओ पनीरसेल्वम को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और कोषाध्यक्ष के पद से निष्कासित कर दिया गया। पन्नीरसेल्वम के समर्थक भी निष्कासित किए गए हैं।

 

एमजीआर और जयललिता को भारत रत्न देने का प्रस्ताव

 

AIADMK की आम परिषद की बैठक में पेरियार, एमजी रामचंद्रन (एमजीआर) और जे जयललिता को भारत रत्न देने की मांग का प्रस्ताव पारित किया गया। बता दें कि ई पलानीस्वामी की अध्यक्षता में अन्नाद्रमुक आम परिषद की बैठक में 16 प्रस्तावों के पारित होने की उम्मीद है।

 

पनीरसेल्वम समर्थकों ने की तोड़फोड़

 

वहीं हाईकोर्ट का फैसला आते ही पनीरसेल्वम समर्थकों ने ई पलानीस्वामी के नेतृत्व में पार्टी की आम परिषद की बैठक से पहले अन्नाद्रमुक कार्यालय का दरवाजा तोड़ दिया। इसके अलावा समर्थकों ने सड़क पर भी नारेबाजी की। हांलांकि विरोध के बावजूद AIADMK नेता पलानीस्वामी बैठक के लिए अपने आवास से रवाना हो गए। बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उनके स्वागत के लिए रास्ते में एकत्र हुए।

LLB दाखिले के लिए BCI की ऊपरी-आयु सीमा को चुनौती देने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज, प्रतिस्पर्धा अधिनियम का बताया उल्लंघन | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

पनीरसेल्वम की याचिका खारिज

 

वहीं इससे पहले तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री पनीरसेल्वम की याचिका को खारिज करते हुए मद्रास हाईकोर्ट ने आज होने वाली AIADMK आम परिषद की बैठक के लिए हरी झंडी दे दी । बता दें कि पनीरसेल्वम ने बैठक को रोकने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दी थी जिसमें अंतरिम महासचिव पद को पुनर्जीवित करने और समन्वयक के साथ-साथ संयुक्त समन्वयक पदों को समाप्त करने का प्रस्ताव था।

 

साथ काम करना मुश्किल: मुनुसामी

 

बता दें कि अन्नाद्रमुक (AIADMK) के वरिष्ठ नेता के.पी. मुनुसामी ने शनिवार को ओ.पनीरसेल्वम आरोप लगाते हुए कहा था कि पार्टी कोषाध्यक्ष ओ.पनीरसेल्वम ने सत्तारूढ़ द्रमुक से नजदीकी बना ली है और अब उनके साथ किसी भी तरह का संबंध रखना असंभव है। मुनुसामी ने कहा कि पनीरसेल्वम द्रमुक शासन का पक्ष ले रहे हैं और जब वह सत्तारूढ़ दल की प्रशंसा करेंगे तो इससे अलगाव की स्थिति उत्पन्न होगी।

 

 

Panneerselvam loses battle for supremacy over AIADMK, Palaniswami becomes interim general secretary

 

Chennai | [Court Bulletin] | Former Chief Minister O.K., fighting for supremacy over AIADMK in Tamil Nadu from the Madras High Court. Panneerselvam has suffered a major setback. In fact, after the Madras High Court approved the meeting of the General Council, Edappadi K. Palaniswami was elected the interim general secretary of AIADMK. In the meeting, the AIADMK General Council has passed a resolution to reinstate the post of General Secretary and ensure the election of one person to the post by the primary members of the party. The election will be held after 4 months.

 

बिहार के जज का सनसनीखेज दावा; जल्दी फैसला देने पर HC ने कर दिया निलंबित, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब bihaar ke jaj ka sanasaneekhej daava; jaldee phaisala dene par hch ne kar diya nilambit, supreem kort ne sarakaar se maanga javaab
READ

Apart from this, a resolution was passed in the meeting to abolish the dual leadership of the party and to create the post of Deputy General Secretary for the party. Let us tell you that this morning Panneerselvam got a setback when the Madras High Court approved the meeting. It was only after this decision that his defeat was considered certain.

 

 Panneerselvam suspended from party’s primary membership

 

O Panneerselvam was expelled from the primary membership of the party and the post of treasurer at the AIADMK General Council meeting. Supporters of Panneerselvam have also been expelled.

 

 Bharat Ratna to be given to MGR and Jayalalithaa

 

AIADMK general council meeting passed a resolution demanding Bharat Ratna for Periyar, MG Ramachandran (MGR) and J Jayalalithaa. The AIADMK General Council meeting chaired by E Palaniswami is expected to pass 16 resolutions.

 

 Panneerselvam supporters ransacked

 

At the same time, as soon as the High Court’s decision came, Panneerselvam supporters led by E Palaniswami broke the door of the AIADMK office before the general council meeting of the party. Apart from this, supporters also raised slogans on the road. However, despite protests, AIADMK leader Palaniswami left his residence for the meeting. A large number of party workers gathered on the way to welcome him.

 

Panneerselvam’s plea dismissed

 

At the same time, rejecting the petition of former Tamil Nadu Chief Minister Panneerselvam, the Madras High Court gave the green signal for the meeting of the AIADMK General Council to be held today. Let us inform that Panneerselvam had petitioned the High Court to stay the meeting which proposed to revive the post of interim general secretary and abolish the coordinator as well as the joint coordinator posts.

पति की हैसियत के अनुसार रहना पत्नी का अधिकार, ₹2 लाख गुजारा भत्ता किया तय pati kee haisiyat ke anusaar rahana patnee ka adhikaar, ₹2 laakh gujaara bhatta kiya tay
READ

 

 Difficult to work with: Munusamy

 

Let us inform that senior AIADMK (AIADMK) leader K.P. Munusamy had on Saturday alleged O.Paneerselvam that party treasurer O.Paneerselvam has drawn closeness with the ruling DMK and now it is impossible to have any kind of relationship with him. Munusamy said Panneerselvam is favoring the DMK regime and when he praises the ruling party, it will lead to alienation.

 

 

 

विजय माल्या को अवमानना मामले में 4 माह की कैद, कोर्ट ने 2 हजार का जुर्माना भी ठोका vijay maalya ko avamaanana maamale mein 4 maah kee kaid, kort ne 2 hajaar ka jurmaana bhee thoka

 

Related Articles

Back to top button