.

4 आतंकियों की फांसी हाईकोर्ट ने की माफ, 2 पाकिस्तानी नागरिकों को वापस भेजने का दिया निर्देश, देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के जुर्म में सुनाई गई थी सजा | ऑनलाइन बुलेटिन

कोलकाता | [कोर्ट बुलेटिन] | देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के जुर्म में मौत की सजा पाए 2 पाकिस्तानी नागरिकों सहित लश्कर-ए-तैयबा के 4 आतंकवादियों को कलकत्ता हाई कोर्ट ने सोमवार को बरी कर दिया, जबकि उन्हें अन्य अपराधों के लिए सजा सुनाई। चारों को भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने की साजिश रचने का दोषी पाया गया था तथा 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनायी गयी थी।

 

जस्टिस जॉयमाला बागची की डिवीजनल बेंच ने दोनों पाकिस्तानी नागरिकों मोहम्मद युनूस और मोहम्मद अब्दुल्ला को उनके देश भेजे जाने का निर्देश दिया। यह दोनों पहले ही अपनी तय सजा का समय पूरा कर चुके हैं।

 

दो भारतीयों के लिए भी निर्देश

 

न्यायमूर्ति जॉयमाल्या बागची और न्यायमूर्ति अनन्या बंदोपाध्याय की खंडपीठ ने चारों दोषियों को भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 121 के तहत आरोपों से बरी कर दिया। कलकत्ता हाई कोर्ट ने इस साजिश में दोषी पाए गए 2 भारतीयों को लेकर भी निर्देश दिए हैं।

 

यह दोनों शख्स मुजफ्फर अहमद और एसके नईम हैं। यह दोनों भी अपनी सजा की अवधि पूरी कर चुके हैं। कलकत्ता हाई कोर्ट ने मुजफ्फर को सुधार गृह से छोड़ने और नईम को एक अन्य केस में पटियाला हाउस कोर्ट, दिल्ली में पेश करने के लिए कहा गया है।

 

न्यायमूर्ति अनन्या बंदोपाध्याय की बेंच ने मौत की सजा देने वाली एक सत्र अदालत के फैसले के खिलाफ अपीलों पर दिए अपने आदेश में कहा कि आईपीसी की धारा 121 के तहत बरी किए जाने के मद्देनजर अपीलकर्ताओं को मिली मौत की सजा तथा 50-50 हजार रुपये के जुर्माने को रद्द किया जाता है।

कन्हैया जैसा होगा तेरा अंजाम, हाईकोर्ट एडवोकेट क्लर्क की साथी को धमकी kanhaiya jaisa hoga tera anjaam, haeekort edavoket klark kee saathee ko dhamakee
READ

 

2007 में हुए थे अरेस्ट

 

अदालत ने कहा कि हालात से पता चलता है कि अपीलकर्ता आतंकी संगठन के बड़े नाम नहीं हैं। उनके आतंकवाद के रास्ते पर लौटने की बहुत कम संभावना है। ऐसे में जबकि मोहम्मद युनूस और मोहम्मद अब्दुल्लाह अपनी सजा पूरी कर चुके हैं, जिम्मेदारों को निर्देश दिया जाता है कि दोनों को उनके देश पाकिस्तान भेजा जाए। 3 अप्रैल 2007 को बीएसएफ ने 4 लोगों को लश्कर आतंकी होने के संदेह में गिरफ्तार किया था। इसके बाद उन्हें स्थानीय पुलिस को सौंप दिया गया था।

 

पाकिस्तान में मिली थी ट्रेनिंग

 

मामले में पश्चिम बंगाल सीआईडी ने जांच की थी और चारों को देश के खिलाफ युद्ध भड़काने दोषी पाया था। नईम साल 2013 में उस वक्त कस्टडी से भाग गया था, जब उसे 2006 मुंबई ट्रेन ब्लास्ट केस में पूछताछ के लिए महाराष्ट्र ले जाया जा रहा था। बाद में अक्टूबर 2018 में उसे एनआईए ने फिर हिरासत में ले लिया था।

 

नईम को लश्कर ने पाकिस्तान में हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया था। इसके बाद उसे बांग्लादेश में 3 लोगों से मिलने और उन्हें भारत में घुसपैठ करने व जम्मू-कश्मीर तक ले जाने की जिम्मेदारी दी गई थी। 4 लश्कर आतंकी नॉर्थ 24 परगना जिले से पश्चिम बंगाल की सीमा में प्रवेश करते वक्त बीएसएफ के हत्थे चढ़ गए थे।

 

ये भी पढ़ें:

Shraddha Murder Case: श्रद्धा की हत्या के बाद Google पर क्या सर्च कर रहा था आफताब अमीन पूनावाल, दिल्ली पुलिस ने बताया | ऑनलाइन बुलेटिन

 

Related Articles

Back to top button