.

बोझ bojh

©नीलोफ़र फ़ारूक़ी तौसीफ़

परिचय– मुंबई, आईटी टीम लीडर


 

आँसुओं का बोझ, जब पलकों पे उतर आता है,

फ़लक हो या पलक बूँद बन टपक जाता है।

 

बेबसी, मजबूरी एक घुटन बन रह जाती है,

बेटी के जन्म होते ही, बोझ कहलाती है।

 

हर कोई मुब्तला है, अपनी ज़िंदगी का बोझ उठाने में,

दर्द दिखता है अब सिर्फ़ शाएरी या अफ़साने में।

 

बोझ उठाते-उठाते ज़िन्दगी भी बोझ बन जाती है,

परवाज़ होकर रूह, जिस्म को बेजान कर जाती है।

 

क़र्ज़ के बोझ की जब बारी आती है,

हर एक बोझ देखकर मुस्कुराती है।

 

शक्ति है जितनी वो उतना ही बोझ उठाता है,

अक्सर बीच चौराहे पे,बोझ लेकर कोई गिर जाता है।

 

हर कोई अपनी ज़िम्मेदारी का बोझ उठा रहा है,

कोई दबा है बोझ तले, कोई बोझ लेकर मुस्कुरा रहा है।

 

 

नीलोफ़र फ़ारूक़ी तौसीफ़

Nilofar Farooqui Tauseef

 

 

burden

 

 

When the burden of tears descends on the eyelids,
Whether it is a plaque or an eyelid becomes a drop, it drips.

 

Helplessness, helplessness becomes a suffocation,
As soon as a daughter is born, she is called a burden.

 

Everyone is capable, in carrying the burden of his life,
Pain is now visible only in poetry or Afsana.

 

Carrying a burden, life also becomes a burden,
The soul becomes lifeless by becoming parvaz.

 

When it comes to the burden of debt,
Every one smiles seeing the burden.

 

Power is as much as it carries the burden,
Often in the middle of the crossroads, someone falls with a load.

प्रियतम तुम कब आओगे priyatam tum kab aaoge
READ

 

Everyone is carrying the burden of his responsibility,
Some are buried under the burden, some are smiling with the burden.

 

 

कर्म की रेखा ! karm kee rekha !

 

 

 

Related Articles

Back to top button