.

दोस्तों | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

©भरत मल्होत्रा

परिचय- मुंबई, महाराष्ट्र


 

माना कि ये ज़माना बेरहम है दोस्तों

पर आपके होते हुए क्या गम है दोस्तों

========================

 

इतना प्यार आपसे मिला कि मेरी जीस्त

एहसान चुकाने के लिए कम है दोस्तों

========================

 

थोड़ा सा राम थोड़ा सा रावण है सभी में

अच्छे बुरे का आदमी संगम है दोस्तों

========================

 

हालात के पुरज़ोर थपेड़ों के बावजूद

बुलंद अपनी यारी का परचम है दोस्तों

========================

 

आपके लगाव को जो कर सके बयान

मेरी शायरी में इतना कहां दम है दोस्तों

========================

 

ये भी पढ़ें:

आइये हम सभी अपने कचरे को सोने में बदले | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

हर्ष वेदना | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन
READ

Related Articles

Back to top button