.

थोड़ा मैं मशहूर होता जा रहा हूँ | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

©भरत मल्होत्रा

परिचय- मुंबई, महाराष्ट्र


 

 

लोग कहते हैं बहुत मगरूर होता जा रहा हूँ,

जैसे-जैसे थोड़ा मैं मशहूर होता जा रहा हूँ,

============================

 

वक्त ने मुझको सिखा दी है परख इंसान की,

मतलबी लोगों से बस अब दूर होता जा रहा हूँ,

============================

 

बादशाह जैसा था पाला माँ ने बचपन में मुझे,

बड़ा होकर दिन-ब-दिन मजदूर होता जा रहा हूँ,

============================

 

दिन भर की मेहनत से लगा है टूटने मेरा बदन,

बिन पिए ही मैं नशे में चूर होता जा रहा हूँ,

============================

 

रोज़ घट जाता है और एक दिन मेरी उम्र से,

कतरा-कतरा जलने को मजबूर होता जा रहा हूँ,

============================

 

ये भी पढ़ें :

थूकना / उगलना मना है | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

अंतस के भाव | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

Related Articles

Back to top button