.

सुनता हूँ sunata hoon

©कुमार अविनाश केसर

परिचय– मुजफ्फरपुर, बिहार


 

 

सुनता हूँ –

स्वरों के चिह्न ,

मात्रा कहलाते हैं।

फिर…

‘र’ ?

तीन भागों में,

क्यों बिखरा पड़ा है?

कहीं लैंपशेड की तरह –

उल्टा लटकता!

कहीं,

कबड्डी में अड़ंगा लगाते….

खिलाड़ियों की

तिरछी टँगड़ी जैसा!

कहीं नाग की तरह फन निकाले…

जैसे…

शिव के माथे पर चढ़ बैठा हो शेषनाग!!

भ्रम …

ट्रुथ …

और

कर्म …

का खेल –

अब भी समझ में नहीं आया.!!!

 

 

कुमार अविनाश केसर

Kumar Avinash Kesar

 

 

I hear

 

 

I hear –
vowel marks,
called quantity.
Then…
‘R’?
in three parts,
Why is it scattered?
Somewhere like a lampshade –
Hanging upside down!
somewhere,
Obstacles in Kabaddi….
of players
Like a skewer!
Somewhere out like a snake…
like…
Sheshnag is sitting on the forehead of Shiva.
Confusion …
truth …
And
Destiny …
game of –
Still don’t understand.!!!

 

 

 

देश में हिंसक होते युवा आंदोलन desh mein hinsak hote yuva aandolan

 

 

 

 

 

 

 

परिश्रम के बीज parishram ke beej
READ

Related Articles

Back to top button