.

चिंतन शिविर में शामिल होंगे इप्टा के संस्कृतिकर्मी chintan shivir mein shaamil honge ipta ke sanskrtikarmee

नवादा | [बिहार बुलेटिन] | समकालीन परिदृश्य में साझी विरासत, सहअस्तित्व की अवधारणा और इप्टा की रचनात्मक चुनौतियां एवं इसके उपाय पर व्यापक मंथन के निमित्त 2और 3 जुलाई 2022 को आयोजित 2 दिवसीय प्रांतीय महासभा सह चिंतन शिविर युवा आवास भवन, फ्रेजर रोड, पटना में नवादा इप्टा के अध्यक्ष नरेन्द्र प्रसाद सिंह, सचिव अशोक समदर्शी, सहायक सचिव गौतम कुमार सरगम, कार्यकारिणी सदस्य रेजा तस्लीम, धनंजय कुमार एवं मंसूर खांन नादां शामिल होंगे।

 

बिहार इप्टा राज्य परिषद के आलोक में ‘इप्टा की रचनात्मक चुनौतियां एवं इसके उपाय ‘ नामित संवाद के प्रमुख वक्ता होंगे हृषीकेश सुलभ जबकि ‘इप्टा का सौंदर्य ‘ पर गहन वक्तव्य में भाग लेंगे प्रोफेसर तरुण कुमार।

 

प्रोफेसर डेजी नारायण, प्रोफेसर विनय कंठ और केएन वार्ष्णेय को समर्पित इस शिविर में बसंतपुर, छपरा, हाजीपुर, सहरसा, सिवान, बीहट, मधुबनी, नवादा, दरभंगा, मंझौल, भागलपुर, कटिहार, बेगूसराय, मधेपुरा, मढ़ौरा, भेल्दी, गरखा, सूतिहार, दिघबारा, आरा, पटना और पटना सिटी इप्टा सहित प्रदेश के सभी इकाइयों से चयनित प्रतिनिधि ही भाग लेंगे।

 

नवादा से भाग लेने वाले प्रतिभागियों का चयन नवादा इप्टा के 17 वें सम्मेलन में किया जा चुका है।

 

इस चिंतन शिविर में शामिल इकाइयों की आपसी एकजुटता और सौंदर्यमूलक गतिविधियों से इप्टा नई चुनौतियों का सामना करने में कामयाब होगी।

 

 

 

नरेन्द्र प्रसाद सिंह

Narendra Prasad Singh

 

 

cultural workers of ipta will join the chintan camp

 

Nawada | [Bihar Bulletin] | Narendra Prasad, President of Nawada IPTA at Yuva Awas Bhawan, Fraser Road, Patna, held on 2nd and 3rd July 2022 for a comprehensive brainstorming on common heritage, the concept of coexistence and the creative challenges of IPTA and its solutions in the contemporary scenario. Singh, Secretary Ashok Samdarshi, Assistant Secretary Gautam Kumar Sargam, Executive members Reza Taslim, Dhananjay Kumar and Mansoor Khan Nadan will be included.

 

हम फिर से बाबरी वाले रास्ते पर, ज्ञानवापी पर फैसले के बाद बोले असदुद्दीन ओवैसी | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

In the light of Bihar IPTA State Council, Hrishikesh Sulabh will be the keynote speaker of the dialogue named ‘Creative Challenges of IPTA and its Remedies’ while Professor Tarun Kumar will participate in the in-depth speech on ‘The Beauty of IPTA’.

 

Dedicated to Professor Daisy Narayan, Professor Vinay Kanth and KN Varshney, this camp is dedicated to Basantpur, Chapra, Hajipur, Saharsa, Siwan, Behat, Madhubani, Nawada, Darbhanga, Manjhoul, Bhagalpur, Katihar, Begusarai, Madhepura, Marhaura, Bheldi, Garkha, Sutihar. Only selected representatives from all the units of the state including Dighbara, Ara, Patna and Patna City IPTA will participate.

 

The participants from Nawada have been selected in the 17th conference of Nawada IPTA.

 

With the mutual solidarity and aesthetic activities of the units involved in this Chintan Shivir, IPTA will be able to meet new challenges.

 

 

 

कीमियागर keemiyaagar

 

 

 

Related Articles

Back to top button