.

राजा जयसिंह को बताया बाबर के वंशजों का नौकर, तेलंगाना CM की बेटी ने की हस्तक्षेप करने की मांग | ऑनलाइन बुलेटिन

जयपुर | [राजस्थान बुलेटिन] | राजस्थान के जयपुर शहर को बसाने वाले पूर्व महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय को बाबर के वंशजों का नौकर बताने का मामला सामने आया है। Sawaai Jaysingh Dwitiya News: दरअसल, तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव की बेटी टीआरएस नेता कल्वकुंतला कविता ने इस संबंध में विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने इसका विरोध करने की मांग की है।

 

उनके मुताबिक समरकंद की वेद्यशाला में यह लिखा है- भारत में 17वीं—18वीं सदी के दौरान शासन करने वाले मिर्जा बाबर के पूर्वज मिर्जा उलुग बेग से गणित, वास्तुकला और खगोल विज्ञान की गहन रूचि थी। उन्होंने इन पर विशेष ध्यान दिया। 18वीं सदी में बाबर के वंशज मुहम्मद शाह (1719-1748) ने अपने नौकर सवाई जयसिंह को जयपुर, बनारस और दिल्ली में वेधशालाएं बनाने का आदेश दिया। यहां की वेधशालाओं में समरकंद वेधशाला के ही उपकरणों की नकल की गई है।

 

सोशल मीडिया पर वायरल फोटो

 

जयपुर शहर को बसाने वाले पूर्व महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय को उज्बेकिस्तान के समरकंद के शिलालेख में बाबर के वंशजों का नौकर बताया गया है। शिलालेख में जहां बाबर की तारीफ की गई है वहीं महाराजा जयसिंह के बारे में अपमानजनक तथ्य लिखे गए।

 

सोशल मीडिया पर फोटो वायरल

 

उल्लेखनीय है कि पीएम मोदी इस समय उज्बेकिस्तान के समरकंद में ही है। प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री वहां शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्‍मेलन में भाग ले रहे हैं। इसी दौरान पूर्व महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय के लिए शिलालेख पर अंकित यह बात वायरल हो रही है।

 

सोशल मीडिया पर लोग प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री जयशंकर से इन शिलालेख को हटवाने की अपील कर रहे हैं। हालांकि ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन वायरल फोटो की पुष्टि नहीं करता है।

 

सुप्रीम कोर्ट ने OROP स्कीम के अमल पर केंद्र की दलील को स्वीकारा, 3 महीने का और दिया अतिरिक्त समय | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

Related Articles

Back to top button