.

यूनिवर्सिटी ने बीए के छात्र को दिए 100 में से 151 मार्क्स, फिर हुआ ये…yoonivarsitee ne beee ke chhaatr ko die 100 mein se 151 maarks, phir hua ye…

पटना | [बिहार बुलेटिन] | बिहार में शिक्षा से जुड़े अक्सर अजब-गजब मामले देखे जाते हैं। नया मामला भी कुछ ऐसा ही जिसे पढ़कर आपका भी सिर चकरा जाएगा। जी, हां अगर किसी परीक्षा के बाद उम्मीदवार को 100 में से 100 नंबर मिल जाएं, तो आप उसकी खुशी का स्तर समझ सकते हैं। दरंभगा में राज्य सरकार की ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी के एक बीए के छात्र ऐसा ही हुआ। छात्र को एक परीक्षा में 100 में से 151 नंबर मिले जिन्हें देखकर वह समझ ही नहीं पाया कि खुश हो या शिकायत लेकर यूनिवर्सिटी जाए।

 

ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी से बीए (ऑनर्स) कर रहे छात्र ने बताया कि जब उसने अपना रिजल्ट देखा, वो हैरान रह गया। पॉलिटिकल साइंस के पेपर में उसे 100 में से 151 नंबर दिए गए, जो जाहिर है ठीक तो नहीं हो सकते। छात्र अपनी मार्कशीट लेकर यूनिवर्सिटी पहुंचा तो उन्होंने अपनी गलती मानते हुए छात्र को दूसरी मार्कशीट बनाकर दे दी। साथ ही कहा कि यह गलती टाइपो एरर की वजह से हो गई है।

 

वहीं एक बीकॉम के छात्र के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। उसे एक परीक्षा में शून्य नंबर मिले, फिर भी प्रमोट कर दिया गया। यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्ररार मुश्ताक अहमद ने इस बारे में कहा कि दोनों ही मामलों में छात्रों की मार्कशीट में टाइपिंग एरर के कारण गलती हुई हैं। इन गलतियों को ठीक करने के बाद दोनों छात्रों को नई मार्कशीट बनाकर दे दी गई है। मुश्ताक अहमद ने आगे कहा कि यह सिर्फ टाइपिंग एरर है, और कुछ नहीं।

 

 

 

University gave 151 marks out of 100 to BA student, then this happened…

 

 

Patna | [Bihar Bulletin] | There are often strange cases related to education in Bihar. The new case is also something similar that you will be blown away after reading it. Yes, if a candidate gets 100 marks out of 100 after an exam, then you can understand his level of happiness. This is what happened to a BA student of the state government’s Lalit Narayan Mithila University in Darbhaga. The student got 151 marks out of 100 in an examination, seeing which he could not understand whether to be happy or go to the university with a complaint.

 

A student pursuing BA (Hons) from Lalit Narayan Mithila University said that when he saw his result, he was shocked. In the Political Science paper, he was given 151 out of 100 marks, which obviously cannot be right. When the student reached the university with his marksheet, he accepted his mistake and gave it to the student by making another marksheet. Also said that this mistake has happened due to typo error.

 

At the same time, something similar happened with a B.Com student. He got zero marks in an exam, yet got promoted. Mushtaq Ahmed, the registrar of the university, said that in both the cases, there was a mistake in the marksheets of the students due to a typing error. After rectifying these mistakes, new mark sheets have been given to both the students. Mushtaq Ahmed further said that it is just a typing error, nothing more.

 

6 राज्यों में NIA की छापेमारी; ISIS के 13 संदिग्ध ठिकानों से कई लिए गए हिरासत में 6 raajyon mein ni kee chhaapemaaree; isis ke 13 sandigdh thikaanon se kaee lie gae hiraasat mein

 

Related Articles

Back to top button