.

मेहनत mehanat

©नीलोफ़र फ़ारूक़ी तौसीफ़

परिचय– मुंबई, आईटी टीम लीडर


 

 

बीज फुटकर अंकुर बन जाए,

बून्द-बून्द की मेहनत सागर कहलाए।

 

पहाड़ का सीना चीर, पानी निकल आए,

फूंक मारे खोखली लकड़ी में, धुन बन जाये।

 

क़दम-क़दम जब बढ़े, मन्ज़िल को पाए,

थोड़ी-थोड़ी मेहनत मिलकर, प्रतिभा दिखाए।

 

पसीना की तरह ख़ून बहे, ज़िम्मेदारी लाए,

सूरज की लालिमा बन, आकाश में जगमगाए।

 

स्याही की मेहनत, इंक़लाब लाए,

मुरझाता फूल भी जुनून में खिल जाए।

 

हाथों के छाले, मेहनत का रंग लाए,

जुनून व जज़्बा लक्ष्य तक पहुंचाए।

 

 

नीलोफ़र फ़ारूक़ी तौसीफ़

Nilofar Farooqui Tauseef

 

 

Hard work

 

 

The seed becomes a retail sprout,
Drop by drop of hard work is called ocean.

The chest of the mountain ripped, the water came out,
Blow into the hollow wood, become a melody.

When step by step, when you reach the destination,
Show your talent with a little hard work.

Bleed like sweat, bring responsibility,
Be the redness of the sun, shine in the sky.

Ink’s hard work, bring revolution,
May even a withered flower blossom in passion.

Blisters of hands, bring the color of hard work,
Bring passion and passion to the goal.

 

 

 

खराब अपना दिमाग, तुम ऐसे ना किया करो kharaab apana dimaag, tum aise na kiya karo

 

 

 

 

 

 

 

समाजिक न्याय | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

Related Articles

Back to top button