.

22 बंद कमरों का रहस्य अभी भी बरकरार, तहखाने से आ रहा मोटा चढ़ावा 22 band kamaron ka rahasy abhee bhee barakaraar, tahakhaane se aa raha mota chadhaava

आगरा | [उत्तर प्रदेश बुलेटिन] | कुछ दिनों पहले ताजमहल में बंद 22 कमरे सुर्खियों में रहे थे। अयोध्या के एक भाजपा नेता ने लखनऊ खंडपीठ में इन 22 कमरों को खोले जाने के लिए याचिका भी दायर की थी। बाद में कोर्ट द्वारा इसको खारिज कर दिया गया था, लेकिन इन 22 कमरों ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं।

 

ताजमहल के बंद कमरों का रहस्य अभी भी छिपा हुआ है। वहीं इन तहखानों के ऊपर लगे जाल से सैलानी चढ़ावा फेंकते हैं। इनमें पैसे, सिक्के और विदेशी मुद्रा भी होती है। सफाई के दौरान एएसआई के कर्मचारी इस राशि को एकत्र करते हैं। ये राशि चालान के माध्यम से बैंक में जमा होती है जो वित्त मंत्रालय को जाती है।

 

ताजमहल के पीछे की ओर एक जाल लगा हुआ है। उसके नीचे तहखाना है। यहीं 22 कमरे बंद होने की बात कही जा रही है। पर्यटक जब घूमते हुए पीछे की ओर जाते हैं तो उन्हें जाल दिखाई देता है। पर्यटक इस जाल से पैसे नीचे की ओर फेंक देते हैं। पैसा एकत्र होता रहता है।

 

महीने में एक बार या 15 दिनों में जब यहां की सफाई के लिए खोला जाता है तो ये राशि मिलती है। इस राशि को एकत्र कर लिया जाता है। इसके लिए एक रजिस्टर भी बनाया गया है। उसमें सारी एंट्री दर्ज की जाती है। बाद में इसे चालान के माध्यम से बैंक के खाते में जमा कर दिया जाता है।

 

मोटी राशि एकत्र हो जाती

 

अक्टूबर से मार्च तक पर्यटन सीजन में बड़ी संख्या में आने वाले पर्यटक जाल से काफी पैसा नीचे की ओर फेंक देते हैं। उस दौरान एक मोटी राशि एकत्र हो जाती है। सफाई के लिए जब इस तहखाने को खोला जाता है तो एएसआई के अधिकारी भी मौजूद रहते हैं। उनकी मौजूदगी में ही रजिस्टर में पैसे, रुपयों और विदेशी मुद्रा की एंट्री की जाती है।

नींद पूरी न होने पर ट्रेन ले जाने से ड्राइवर का इनकार, स्टेशन पर ढाई घंटे खड़ी रही ट्रेन l ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

अधीक्षण पुरातत्वविद राजकुमार पटेल ने बताया, बिहार के एक पर्यटन ने इस तरह से पैसे फेंकने को गलत बताते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। उसके बाद जाल के पास एक बोर्ड लगवा दिया है कि कोई भी इसमें पैसा न फेंके। उसके बाद भी लोग नहीं मान रहे हैं। कर्मचारियों की भी ड्यूटी लगा दी है कि जाल से कोई पैसा डाले तो उसे ऐसा करने से रोंके।

 

 

 

The secret of 22 locked rooms still intact, the rough offerings coming from the basement

 

 

Agra | [Uttar Pradesh Bulletin] | A few days ago, 22 closed rooms in the Taj Mahal were in the news. A BJP leader from Ayodhya had also filed a petition in the Lucknow Bench for the opening of these 22 rooms. This was later rejected by the court, but these 22 rooms had made a lot of headlines.

 

The secret of the closed rooms of the Taj Mahal is still hidden. At the same time, tourists throw offerings from the net over these cellars. They also contain money, coins and foreign currency. The ASI staff collects this amount during cleaning. This amount is deposited in the bank through challan which goes to the Ministry of Finance.

 

There is a net on the back side of the Taj Mahal. Below that is the cellar. Right here 22 rooms are being said to be closed. When tourists walk backwards, they see a trap. Tourists throw money down this trap. Money keeps on collecting.

 

This amount is available once a month or in 15 days when it is opened for cleaning. This amount is collected. A register has also been made for this. All the entries are recorded in it. Later it is deposited in the bank account through challan.

जशपुर के अस्पताल में मारपीट, 2 डॉक्टरों का इस्तीफा, कलेक्टर ने बनाई जांच टीम jashapur ke aspataal mein maarapeet, 2 doktaron ka isteepha, kalektar ne banaee jaanch teem
READ

 

 huge amount collected

 

Tourists who come in large numbers during the tourist season from October to March throw a lot of money down the trap. During that time a hefty amount gets collected. When this basement is opened for cleaning, ASI officers are also present. It is only in his presence that money, rupees and foreign currency are entered in the register.

 

Superintending archaeologist Rajkumar Patel told that a tourist from Bihar had lodged a complaint stating that throwing money in this way was wrong. After that a board has been installed near the net so that no one throws money in it. Even after that people are not agreeing. The duty of the employees has also been imposed that if someone puts money from the net, then stop him from doing so.

 

 

1831 की यह किताब हिंदू पक्ष के दावे को देती है मजबूती, जानें क्या लिखा है 1831 kee yah kitaab hindoo paksh ke daave ko detee hai majabootee, jaanen kya likha hai

 

 

Related Articles

Back to top button