.

अनुपम ज्ञान का anupam gyaan ka

©सरस्वती राजेश साहू 

परिचय- बिलासपुर, छत्तीसगढ़


 

निर्माण नहीं केवल गृह का, मंदिर है अनुपम ज्ञान का।

शिक्षा ही केवल सीख यहां, मनु संस्कृति है उत्थान का।।

 

मानवता का धर्म धारकर, नित कर्तव्य को करना है,

सत्य सदा ही अचल रहा जग, प्रभो नियति नियत विधान का।

 

अंतर तल से अर्चन कर ले, मनु भाव विहल अर्पण सदा,

माँ बुद्धि प्रदाता, भाग्य विधाता, दान मिले संज्ञान का।

 

मानव धर्मी बनकर जीना, हृद उदय प्रेम विश्वास भर,

अर्पण हो सेवा में जीवन, यह पूजा है भगवान का।

 

भावना मन का पतित रहे, बुद्धि,कल्याणी हर सोच में,

ज्ञान दिव्य ही धवल ज्योति है, सच अंतर्मन में प्राण का।

 

 

 

सरस्वती राजेश साहू

©Saraswati rajesh Sahu


of incomparable knowledge

 

It is not only the construction of the house, but the temple is of the unique knowledge.

Education is the only learning here, Manu culture is of upliftment.

 

Holding the religion of humanity, one has to do the duty,

The truth has always remained immovable.

 

Make an offering from the inner plane, Manu Bhava Vihal offering always,

Mother, the provider of wisdom, the creator of fortune, the gift of cognition.

 

Living as a human righteous, heart rises with love full of faith,

Offer life in service, this is worship of God.

 

May the spirit of the mind be impure, intellect, welfare in every thought,

Divine knowledge is the white light, the true soul of the soul.

 

मौसम जैसे बदल गए mausam jaise badal gae

 

 

Related Articles

Back to top button