.

मैं शिक्षक हूँ | ऑनलाइन बुलेटिन

©अनिल बिड़लान

परिचय : कुरूक्षेत्र, हरियाणा.


 

 

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो

मत करो खिलवाड़ देश के भविष्य से

ये कच्ची मिट्टी है, नया आकार देने दो

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो।

 

नित नये प्रयोग ठीक नहीं है शिक्षा में

शिक्षा को शिक्षार्थी के लिए ही रहनेदो

एबीआरसी ही भेज देते है होमवर्क भी

पढ़ाने का ये अधिकार तो पास रहने दो

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो।

 

उलझा मीटिंग में स्कूल से बाहर रखते हो

काम सौंप दूसरों का शिक्षक पर हंसते हो

फिर कहते दाखिले हुए कम क्यों इस बार

चिराग योजना जैसी कारस्तानी रहने दो

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो।

 

बैंक खाता, मिड डे मील, SMC से काम

सर्वे, जनगणना, पशुगणना है बहुत काम

क्यों अपने ही विभाग में अनाथ रहने दो

BLO तो कभी KRP ये नये नाम रहने दो

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो।

 

ढूँढो न बहाने सरकारी स्कूल बंद करने के

गरीब बच्चों का हक पास इनके रहने दो

क्या औचित्य है शिक्षक दिवस मनाने का

सर्वप्रथम शिक्षक को तो शिक्षक रहने दो

मैं शिक्षक हूँ ! मुझे शिक्षक ही रहने दो

छात्रों के लिए हूँ, छात्रों का ही रहने दो।।

 

रद्दा कोनो सुझा दे radda kono sujha de
READ

 

 

आदर्श शिक्षक | ऑनलाइन बुलेटिन

Related Articles

Back to top button