.

कलमकार kalamakaar

©अशोक कुमार यादव

परिचय- मुंगेली, छत्तीसगढ़.


 

 

मृत हुए जन दिल को जिंदा कर देता,

लौकिक जीवन रंगमंच का जादूगर हूं।

प्रबल निराशा में मैं आशा की किरण,

प्रेरक और मार्गदर्शक कलमकार हूं।।

 

जननी की आंसुओं को लेकर हथेली,

चंदन तिलक बना लगा लेता मस्तक।

जब-जब पुकारती है नारी दुःखी स्वर,

रक्षक वीर योद्धा बन देता हूं दस्तक।।

 

सरहद पर डटे सिपाहियों के हृदय में,

राष्ट्रप्रेम और विजय का भाव जगाता।

मातृभूमि के लिए प्राण न्यौछावर करो,

उनके नस-नस में लोहित लहू दौड़ाता।।

 

किसान की दशा, मजदूर की मजबूरी,

बदन से निकलता रात-दिन ज्वालाएं।

मन की पीड़ा सुनता नहीं सत्ता राजन,

मेहनत का हक देकर दूर करो बाधाएं।।

 

देख दीन-हीन बेगार की करुणा दशा,

खून के आंसू पी लेता समझ गंगाजल।

दिवस जगाता मुक बधिर को बैगा रुप,

पाठ पढ़ाता अधिकार का करने मंगल।।

 

 

अशोक कुमार यादव

Ashok Kumar Yadav


 

 

penman

 

 

The dead would have revived the heart,
I am the magician of the cosmic life theatre.
In strong despair I am a ray of hope,
I am an inspirational and guiding writer.

The palm with the mother’s tears,
Make a sandalwood tilak on the head.
Whenever the woman calls out in a sad voice,
I become a protector, a brave warrior, Dastak.

In the hearts of the soldiers standing on the border,
Instilled a sense of patriotism and victory.
Sacrifice your life for the motherland,
Lohit’s blood would run in their veins.

Farmer’s condition, laborer’s compulsion,
Night and day flames emanating from the body.
Satta Rajan does not listen to the pain of the mind,
Remove obstacles by giving the right to hard work.

कुछ फर्ज भी हमारा है | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

Look at the compassionate condition of the poor and the poor,
Gangajal would drink tears of blood.
Day wakes up the deaf to the deaf form,
Mangal for the right to teach the lesson.

 

 

 

साहित्यकार दीपक मेवाती बने साहित्य चेतना मंच के उपाध्यक्ष saahityakaar deepak mevaatee bane saahity chetana manch ke upaadhyaksh

 

 

Related Articles

Back to top button