.

माँ जगदम्बा | ऑनलाइन बुलेटिन

©अमिता मिश्रा

परिचय- बिलासपुर, छत्तीसगढ़


 

 

जगदम्बा के रूप में आई मैया द्वार

इनकी सेवा से मिले जीवन को उद्धार

 

ममतामयी का रूप है मनभावन मुस्कान

कृपा हो मैया की तो बदले सकल संसार

 

दुर्गा, काली जगदम्बे इनके रूप अनेक

इनकी भक्ति से मिले धन, विद्या,विवेक

 

शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघण्टा माता

कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी का रूप

 

कालरात्रि, महागौरी माँ का ध्यान तुम करो

मनोकामना पूर्ण करो माँ दुःख सभी हर लो

 

हम बालक नादान है दया करो माँ जगदम्बे

जीवन की नैया डोले पतवार बनो जगदम्बे

 

नही जानत हूं पूजा,अर्चना ना ही वेद पुराण

दे दो आशीष वो मैया सबका करो कल्याण …

 

ये भी पढ़ें :

 

समता साहित्य अकादमी की ओर से मनाई गई गांधी जयंती | ऑनलाइन बुलेटिन

 

पैसे वाला गरीब | Newsforum
READ

Related Articles

Back to top button