.

सितारे ऊँचाई पे अपने आप नहीं रहते sitaare oonchaee pe apane aap nahin rahate

©कुमार अविनाश केसर

परिचय– मुजफ्फरपुर, बिहार


 

 

किसने पिया कितना ज़हर? छोड़ो, यहाँ आप नहीं रहते।

ये आदमियों की बस्तियाँ हैं, साहब! यहाँ साँप नहीं रहते।

 

उम्र भर क्या किया, वाकेया, कौन जानेगा!

ज़िन्दगी भर, यहाँ जुर्म के हिसाब नहीं रहते।

 

ज़िन्दगी सरायफ़ानी है, सफ़र ज़िंदगानी है।

किसी के अक्श पर किसी के छाप नहीं रहते।

 

लाख पहरे बिठाओ, करोड़ों सुबूत मिटाओ।

बंद घड़े में हरदम छिपे हुए पाप नहीं रहते।

 

मैंने देखा है क़रीब से अपने माथे की छत।

हर माथे पे लकीरों के खाप नहीं रहते।

 

क्यों है तवज्जो आसमाँ का, इतना, केसर!

सितारे इतनी ऊँचाई पे अपनेआप नहीं रहते।

 

 

कुमार अविनाश केसर

Kumar Avinash Kesar

 

 

stars don’t stay high on their own

 

 

Who drank how much poison? Come on, you don’t live here.
These are men’s settlements, sir! Snakes do not live here.

 

What did you do for a lifetime, who knows!
Throughout life, there is no account of crime here.

 

Life is Sarafani, Journey is Zindagani.
No one’s impressions remain on anyone’s axis.

 

Set up lakhs of guards, destroy crores of evidence.
Sins always hidden in a closed jar do not remain.

 

I have seen the roof of my forehead up close.
There are no shadows of lines on every forehead.

 

Why is the attention of the sky, so much, saffron!
Stars do not stay at such heights on their own.

 

 

 

 

 

तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो tumhen janmadin mubaarak ho

 

नहीं लिक्खा मैंने nahin likkha mainne
READ

Related Articles

Back to top button