.

दहेज प्रथा dahej pratha

©रामभरोस टोण्डे

परिचय– बिलासपुर, छत्तीसगढ़.


 

 

जिद पर जिद ,

तुम हरदम करते हो।

दहेज लोभी हत्यारे ,

मोटर कार मांगते हो।

 

लड़की हूँ मैं ,

नहीं कोई सामान।

मत बेचों मुझे ,

बाजार के दाम।

 

घर का खिलौना दे दिया,

आँगन का चांद दे दिया।

जिगर का टुकड़ा मैंने दिया,

दहेज लोभी मत लूटों माँ बाप को।

 

शेयर मार्केट का ,

मैं कोई दाम नहीं।

मेरी जिंदगी,

इतनी भी आम नहीं।

 

तेरी ही बगिया में खिली हूँ ,

तितली बन आसमां में उड़ी हूँ।

मेरी उड़ान को तू शर्मिंदा ना कर ,

ए बाबूल मुझे दहेज देकर बिदा ना कर।

 

 

रामभरोस टोण्डे

Rambharos Tonde


 

 

dowry system

 

 

 

insistence on the will,
You do it
dowry greedy killers,
Ask for a motor car.

 

girl i am
No stuff.
don’t sell me
market price.

 

gave home toys,
Gave the moon of the courtyard.
I gave a piece of liver,
Don’t rob your parents by greedy dowry.

 

of share market,
I don’t value.
my life,
Not so common.

 

I have blossomed in your own garden,
I have flown in the sky as a butterfly.
Don’t embarrass my flight
O Babul, don’t bid me farewell by giving me dowry.

 

 

 

 

मुन्शी प्रेमचंद munshee premachand

 

Related Articles

Back to top button