.

ओहदे का नाजायज़ फ़ायदा | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

©नीलोफ़र फ़ारूक़ी तौसीफ़

परिचय- मुंबई, आईटी टीम लीडर


 

 

ओहदे का नाजायज़ फ़ायदा उठाते देखा।

भरी महफ़िल इज़्ज़त की धज्जियां उड़ाते देखा।

पैरों से कुचल कर रख दिया इंसानियत को,

हर बड़ी मछली को छोटे को खाते देखा।

 

रुतबे का अकड़, ज़माने भर को दिखाता,

जीत का परचम लहराने, नीचे को दबाता,

ज़ुल्म की आंधियां चलती एक ज़िद बनकर,

जो भी आती ज़द में, बेमौत मारा जाता।

 

घर, दफ़्तर या हो अपना ये मुआशरा,

आवाज़ बनना चाहते सभी, मिलता नहीं आसरा,

चलती नहीं दुनिया, जूते के कील की नोक पर,

ज़ुल्म की आग तले हर कोई है बे- आसरा।

 

ये भी पढ़ें: 

फलसफा | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

 

छत्तीसगढ़ एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर हुआ सम्मानित, ’’मोर मयारू गुरूजी’’ कार्यक्रम को मिला राष्ट्रीय सिल्वर स्कोच अवार्ड | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन
READ

Related Articles

Back to top button