.

सुबासचन्द्र बोस subhaashachandr bos

अरुणा अग्रवाल

©अरुणा अग्रवाल 

परिचय- लोरमी, मुंगेली, छत्तीसगढ़.


 

 

आजादी की लड़ाई के थे दीवाने,

सुभाषचन्द्र था जिसका नाम,परवाने,

गरम लहू दौड़ रहा था कण कण में,

देशभक्त था वह, अविस्मरणीय, महान।।।

 

ओड़िशा के कटक शहर में जनम,

पठन-पाठन में भी रहा वह उत्तम,

अंग्रेज हुकुमत की देखा मनमानी,

आजादहिंद फौज का किया गठन।।।

 

तुम मुझे खून दो,मैं तुम्हें दूंगा आजादी

यह नारा से किया आप्लावित,भारती,

गांधी थे सत्य,अहिंसा के पुजारी, माही

पर सुभाष थे गरम खून के समर्थक।।।

 

कई नौजवान जुड़े उनके साथ,सहर्ष,

दिनु दुगुनी, रात चौगुनी बढाया बल,

देखके उसका ओजस्तिता, दंग गोरा,

चीन ओर भारत के बिच होना था समझौता।।।

 

तासकेण्ड़ के लिऐ उड़ान भरा विमान,

लापता हुआ वह वीर शिरोमणि, महान

रहस्य का मुखौटा में छिप गया नाम,

इतिहास टटोल रहा आज भी उसका काम,

पुण्यतिथि पे उन्हें कोटिश प्रणाम।।।

 

अरुणा अग्रवाल

©Aruna Agarwal


 

Subhash Chandra Bose

 

 

Were crazy about the freedom struggle,

Subhash Chandra, whose name was Parwane,

Hot blood was running in every particle,

He was a patriot, unforgettable, great…

 

Born in Cuttack city of Odisha,

He remained good in studies too.

Saw the arbitrariness of the British rule,

Azad Hind Fauj was formed.

 

You give me blood, I will give you freedom

It was flooded with the slogan, Bharati,

Gandhi was the priest of truth, non-violence, Mahi

But Subhash was a supporter of hot blood.

 

Many young people joined him, gladly,

Day doubled, night quadruple increased strength,

Seeing his brilliance, stunned blonde,

There was to be an agreement between China and India.

 

The plane flew to Taskend,

The heroic Shiromani, the great one who went missing

The name hidden in the mask of mystery,

His work is still groping history,

Greetings to him on his death anniversary.

 

 

हायर एजुकेशन पाने अब नहीं जाना पड़ेगा बाहर, छत्तीसगढ़ में खुलेंगे 10 सरकारी इंग्लिश मीडियम कॉलेज haayar ejukeshan paane ab nahin jaana padega baahar, chhatteesagadh mein khulenge 10 sarakaaree inglish meediyam kolej

 

Related Articles

Back to top button