.

अस्तित्व | ऑनलाइन बुलेटिन

©जलेश्वरी गेंदले, शिक्षिका

परिचय- मुंगेली, छत्तीसगढ़.


 

 

क्यों ?

कब तक

तलाश  करूं

कहां रखा है ?

कहां मिलेगा?

मिट गई मै

जन्म से लेकर

जीवन  के

हर पड़ाव में ,

सिर्फ मिटना ही जाना मैंने

बस यही आस में

मै भी हूं कहीं

जो बनाएगा एक नया पहचान

जो देगा मुझे सम्मान

थक गई , हार गई

पूरा जीवन

न मिला मुझे

मेरा स्थान

न रखा है सुरक्षित

मेरा मान

पर हारना सीखा

नहीं , तलाश जारी है

मजबूत इरादा है,

बना ही लूंगी मै अपना

“”अस्तित्व “””

 

 

कवियित्री पूनम सुलाने-सिंगल राष्ट्र गौरव अवार्ड 2022 से सम्मानित | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

Related Articles

Back to top button