.

विद्रोही होने का विरासत vidrohee hone ka viraasat

©असकरन दास जोगी, अतनू

परिचय– बिलासपुर, छत्तीसगढ़


 

घृणा प्रेम

न्याय-अन्याय

मान-अपमान

समानता-असमानता

का अन्तर सीखाना है

अपने बच्चों को

 

समय के साथ बदलते हुए

तिरस्कार के उन सूक्ष्म

युक्तियों से भी अवगत कराना है

ताकि समझ सकें

कौन यहाँ

हमारा दिल से सम्मान करता है

और कौन अपमान

 

बच्चों में वह समझ भी विकसित करनी है

जिससे ये सहिष्णुता न साधे

ताकि होने वाले प्रत्येक शोषण के ख़िलाफ़

आवाज़ बुलन्द कर सकें

 

अपने विद्रोही होने का विरासत

इन्हें सौंप कर जाना भी तो है

जिससे

न्याय, अधिकार, समानता, मानवता एवं

जल जंगल ज़मीन के लिए जंग जारी रहे

उन शोषकों के विरुद्ध

 

जाते-जाते बच्चों के हाथ में

कलम देकर जाना है

किन्तु इसका मतलब यह नहीं

कि इन्हें हथियार चलाना भी न आये

शान्ति-अशान्ति के बीच

हिंसा-अहिंसा की सीमा और आत्मरक्षा के

महीन अन्तर को भी समझाना है ।

 

 

प्रतिकात्मक चित्र

 

 

असकरन दास जोगी

 

Askaran Das Jogi

 

 

legacy of being a rebel

 

 

hate love
justice and injustice
humiliation
equality-dissimilarity
is to learn the difference
to your children

changing over time
those subtle of disdain
also inform about the tips
in order to understand
who here
our heart respects
and who insults

 

To develop that understanding in children
so that it does not tolerate
So that against every exploitation that takes place
be able to raise your voice

legacy of being your rebel
hand them over
By which
Justice, Rights, Equality, Humanity and
The battle for water, forest, land continues
against the exploiters

 

in the hands of children
pen to go
but that doesn’t mean
that they don’t even know how to use weapons
in the midst of peace
Violence – limits of non-violence and self-defense
Even the smallest difference has to be explained.

 

 

 

नाबालिग कानून naabaalig kaanoon

 

 

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button