.

हिस्सा-ए-बाज़ार ना बन | ऑनलाइन बुलेटिन

©भरत मल्होत्रा

परिचय- मुंबई, महाराष्ट्र


 

हिस्सा-ए-बाज़ार ना बन,

हिम्मत रख लाचार ना बन,

==================

 

कुछ अपनी भी सोचा कर,

सबका खिदमतगार ना बन,

==================

 

दुश्मन भी रख थोड़े से,

सब लोगों का यार ना बन,

==================

 

दिल में भी रख कुछ बातें,

चलता फिरता अखबार ना बन,

==================

 

सबकी अपनी मर्जी है,

किसी का ठेकेदार ना बन,

==================

 

रिश्ते भी कमा ले थोड़े से,

दौलत का पहरेदार ना बन,

==================

 

प्यार का मरहम लगा सबको,

नफरत का हथियार ना बन,

==================

 

ये भी पढ़ें:

एक नया सूरज बनकर | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

गुलशन में तक़रार है gulashan mein taqaraar hai
READ

Related Articles

Back to top button